ChamoliCNE SpecialUttarakhand

भारत—चीन सीमा से लगा गमसाली : जहां देश की स्वतंत्रता की सूचना 5 दिन बाद मिली थी, स्वतंत्रता दिवस मेले को मिलेगी खास पहचान

14views

C.N.E. NEWS /चमोली। शायद बहुत कम लोगों को ज्ञात होगा कि चमोली जनपद का एक सदूरवर्ती गांव गमसाली भी है। यह गांव आज की तारीख में भी ताजा सूचनाओं से अपनी भगौलिक परिस्थितियों के कारण कटा सा रहता है। यह वह इलाका है, जहां सबसे अधिक चीनी चैनिकों की घुसपैठ होती है। कारण यह है कि यह भारत—चीन सीमा पर बाड़ाहोती के बेहद नजदीक है। इस बार मुख्यमंत्री 15 अगस्त को यहां ध्वजारोहण करके नागरिकों का उत्साह बढ़ायेंगे। बद्रीनााि के विधायक महेंद्र भट्ट ने सीएम को इसके लिए निमंत्रित किया है। यह भी उल्लेखनीय है कि गमसाली ऐसा सुदूरवर्ती गांव है, जहां लोगों को देश के आजाद होने की जानकारी पांच दिन बाद 20 अगस्त 1947 को मिल पाई थी। गमसाली के निवासी आजादी के जश्न को हर साल बेहद अनूठे अंदाज में मनाते हैं। स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त को गांव में बाकायदा मेले का आयोजन किया जाता है। यूं तो स्वतंत्रता दिवस पूरे देश में मनाया जाता है, लेकिन आज की तारीख में यह एक सरकारी त्योहार बनकर रह गया है। वहीं गमसाली के नागरिक इसे किसी लोक पर्व के रूप में मनाया करते हैं। 15 अगस्त को सीएम के आगमन के बाद माना जा रहा है कि यहां के इस पारंपरिक मेले को कोई विशेष दर्जा भी मिल जायेगा। साथ ही यहां का स्वतंत्रता दिवस मेला अपनी अलग पहचान देश भर में कायम करेगा।

Leave a Reply