BusinessCNE SpecialDehradunPoliticsUttarakhand

एमडीडीए तथा एचआरडीए में प्रमोशन व ट्रांसफर का खेल

12views

देहरादून। उत्तराखंड में यूँ तो ट्रांसफर के खेल में दाल काली होती हे सुना था पर उत्तराखंड के आवास विभाग में तो पूरी की पूरी कार्यप्रणाली पर ही सवाल उठते नजर आ रहे हैं। आप को बताते चलें की हम बात कर रहे हैं मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण व हरिद्वार विकास प्राधिकरण की। आज कल दोनों ही चर्चा का विषय बने हुए हैं। सूत्रों की मानें तो आवास विभाग अनुभाग द्धारा जल्द ही बम्पर स्थानांतरण किये जा रहे हैं। जिसमें अवर अभियंता व सहायक अभियंता जैसे पदों के स्थानांतरण होने हैं। सूत्रों के अनुसार मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण व हरिद्वार विकास प्राधिकरण में पूर्व में काफी समय से जमे पड़े रसूखदार अभियंताओं को इधर से उधर करने का खेल खेला जा रहा है। वहीं अवर अभियंताओं को प्रभारी सहायक अभियंता बना कर दिवाली को रंगीन करने का खेल बड़ी चतुराई से अंजाम देने की पूरी तैयारी कर ली गई है। यहाँ तक की हाईकमान के दरबार से भी फाइल पर घुंडी मार कर आ गई है। वहीं कई सहायक अभियंताओं को प्रभारी अधिशासी अभियंता के पद पर नवाजने का काम बदस्तूर जारी है। इस खेल में भी उन्ही रसूखदार अधिकारियों को तबज्जो दी जा रही है, जो कई सालों से मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण व हरिद्वार विकास प्राधिकरण के अलावा कहीं नहीं गये। सूत्रों की मानें तो पूर्ववर्ती सरकार के मंत्री प्रीतम सिंह पंवार के समय कई लोगों को नैनीताल, उत्तरकाशी, चंपावत आदि स्थानों में भेजा आया किन्तु वहां पर प्राधिकरण के गठन न होने के कारण रसूखदार अधिकारियों को वापस देहरादून बुला लिया गया। जबकी ये लोग लगभग 15 वर्षों से देहरादून में ही सेवाएं दे रहे हैं और अपने साम्राज्य का विस्तार कर रहे हैं। जबकि नियम के अनुसार सरकारी अधिकारी एक स्थान पर 3 वर्ष से अधिक नहीं रह सकता है, लेकिन प्राधिकरण के अधिकारियों को इस बात से क्या लेना वहां की सरगर्मी तो कुछ और ही बयां करती दिख रही है। अब इस मामले में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष का खेल तो करने वाले ही जानते होंगे लेकिन जिस तरह से इन रसूखदार अधिकारियों को आपस में अदला बदली करने का खेल व देहरादून में तैनाती का खेल किया जा रहा है। इससे सीधे—सीधे आवास विभाग सवालों के घेरे में दिखाई दे रहा है। जबकि शासन के पास नियम कानून नाम की कोई चीज नहीं दिखाई दे रही है।

Leave a Reply