CrimeNainitalNationalPoliticsUttarakhand

स्वामी सानंद की मौत का मामला : प्रदेश सरकार पर हत्या का मुकदमा न हुआ तो कांग्रेसी छेड़ेगी आंदोलन, पुतला फूंका

15views

हल्द्वानी। स्वामी सांनद जी के मौत के विरोध में आज राज्य सरकार के खिलाफ बुद्धपार्क में जोरदार नारेबाजी के साथ दोषियों पर कार्यवाही की मांग को लेकर काग्रेस नेता हेमन्त साहू के नेतृव में मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया गया। इस मौके पर कांग्रेस नेता हेमंत साहू ने कहा कि 111 दिन से अनशन कर रहे हैं स्वामी सानंद की मौत सरकार और प्रशासन की लापरवाही के कारण हुई है सरकार ने गंगा की सफाई में कोई ध्यान नहीं दिया जब उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया तब तक वह पूरी तरह से ठीक थे आखिर अस्पताल में उनकी मौत कैसे हो गई इस मौत के लिए सरकार और प्रशासन पूरी तरह से जिम्मेदार हैं। दोषियों को हर हाल में सजा मिलनी चाहिए त्रिवेंद्र सरकार इन्वेस्टर समिट में व्यस्त थी, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने स्वामी सानंद से किसी तरह की कोई बात नहीं की। स्वामी सानंद की मौत नहीं सरकार ने उनकी हत्या करी है, पूर्व में भी निशंक सरकार के समय में स्वामी निगमानंद की मौत हुई थी। जिसके लिए भी तत्कालीन भाजपा सरकार ही जिम्मेदार है।
पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष मयंक भट्ट व हरीश रावत ने कहा भाजपा केवल संत समाज को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करती है। आज देश प्रदेश के साथ ही संत समाज मे भी एक गलत संदेश गया है। सरकार अगर स्वामी सानंद से बात कर उनकी मांगों को मान लेती तो आज उनकी मौत नहीं होती। भाजपा सरकार और प्रशासन पर भी हत्या का मुकदमा दर्ज होना चहिये। अगर ऐसा नहीं हुआ तो काग्रेस उग्र आन्दोलन को मजबूर होगी। इस दौरान मुख्य रूप से इस दौरान पर्व पार्षद राजेन्द्र बिष्ट विशाल, भारती विक्की साहू, भगवती बिष्ट, विनोद कांडपाल, आकाश गुप्ता, सौरभ सोनकर, चम्पा सक्सेना, सलिम सिदिृकी, रवि कुमार, पंकज कश्यप, सचिन राठौर, किरन माहेश्वरी व वासुदेव भट्ट समेत तमाम काग्रेसजन थे।

Leave a Reply