UttarakhandUttarkashi

चार धाम यात्रा के मद्देनजर व्यवस्थायें दुरुस्त करने के निर्देश

102views

उत्तरकाशी (जयप्रकाश बहुगुणा)-जिलाधिकारी डा.आशीष चौहान ने आगामी चार धाम यात्रा के मद्देनजर संबंधित विभागों की बैठक कर ब्यवस्थायें दूरस्थ करने का निर्देश दिया। जिला सभागर में आयोजित बैठक में जनपद के दोनों धाम यमुनोत्री व गंगोत्री में यात्रा मार्गों पर विभिन्न मुलभूत सुविधाओं जैसे सड़क, बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शौचालय, सफाई आदि व्यवस्थाओं पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर चिन्ह्ति भूस्खलन व डेंजर जोन पर जेसीबी मशीन व चालक की तैनाती पहले से ही की जाये। भूस्खलन व डेंजर जोन क्षेत्र पर वैकल्पिक मार्ग का प्लान बनाने के साथ ही डबरानी व गंगनानी के बीच भूस्खलन की स्थिति में श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न न हो इसके लिए पुलिस प्रशासन लोगों को सुरक्षित स्थान पर रूकवाये। मनेरा बाईपास मार्ग के साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग के डेंजर जोन पर क्रेश बेरियर, पैराफिट लगाने के निर्देश बीआरओ को दिये गये। जिलाधिकारी ने यात्रा सीजन में उपरी क्षेत्रों में नेटवर्क की समस्या को देखते हुए वायरलेस के साथ ही 26 सैटेलाईट फोन से कनेक्टिीविटी बनाए रखने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए। साथ ही कहा कि विद्युत संयोजन इत्यादि की व्यवस्था यात्रा सीजन से पहले ही कर ली जाये। पूर्व की भांति सभी यात्रा रूटों पर अस्थाई शौचालय बनाने के साथ ही गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर मनेरी से लगा खेड़ी वाटरफाल के पास भी अस्थाई शौचालय बनाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बन्दरकोट में भी श्रद्धालु बड़ी संख्या में रुकते है व स्नान भी वहीं करते हैं। उनकी सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम करते हुए रात्रि के समय प्रकाश की व्यवस्था करने हेतु बैंड के पास स्ट्रीट लाइट लगायी जाये। बन्दरकोट के सौन्दर्यीकरण के लिए प्लान बनाने के निर्देश दिए। नगर पंचायत गंगोत्री को पार्किग, पथ प्रकाश, शौचालय, साफ सफाई की समुचित व्यवस्था रखने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग को दुरूस्त करने के साथ ही ओजरी में भूस्खलन की सम्भावनाओं को देखते हुए भू-वैज्ञानिक का सर्वे करवाकर तथा भूस्खलन क्षेत्र के दोनों ओर मय संसाधन मशीन, पोकलैण्ड, कृत्रिम प्रकाश इत्यादि की व्यवस्था करने के निर्देश अधिशासी अभियंता एनएच और जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी को दिये। डाबरकोट—त्रिखली पैदल मार्ग को दुरूस्त करने के साथ ही त्रिखली कुंसाला मोटर मार्ग पर पुलिया निर्माण व ह्यूम पाईप लगाने का कार्य भी यात्रा सीजन से पहले करने के निर्देश पीएमजीएसवाई को दिये। त्रिखला-कुंसाला मोटर मार्ग पर वालियंटर रखने के निर्देश दिए गये ताकि आपात स्थिति में उनका उपयोग किया जा सके। उन्होंने कहा कि नौगांव-बड़कोट मोटर मार्ग का डामरीकरण का कार्य भी यात्रा सीजन से पहले किया जाये। जिलाधिकारी ने यमुनोत्री धाम पैदल मार्ग को ठीक कराने के साथ ही धाम परिसर में सुरक्षात्मक कार्य व पुल निर्माण का कार्य यात्रा सीजन से पहले पूर्ण करने के निर्देश अधिशासी अभियंता सिंचाई को दिए। ओजरी व स्यानाचट्टी में पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त कर ली जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि पूर्व मे राना चट्टी में एटीएम लगाने के निर्देश पीएनबी को दिए गये ​थे। उन्होंने प्रगति रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश पीएनबी को दिये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त आर्य, सीएमओ डा.विनोद नौटियाल, उप जिलाधिकारी देवेन्द्र सिंह नेगी, डिप्टी कलेक्टर आकाश जोशी, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल, परियोजना अधिकारी उरेड़ा मनोज कुमार आदि उपस्थित थे।

Leave a Response