सीएनई रिपोर्टर

बागेश्वर। पिंडारी, सुन्दरढूंगा एवं कफनी ग्लेशियर सरमूल में अतिवृष्टि के चलते सुंदरढुंगा ग्लेशियर की साहसिक यात्रा पर निकले पर्यटकों के एक दल में शामिल 04 लोगों की मौत हो गई है और 2 लापता हैं। कई लोगों के घायल होने की सूचना भी है। लापता साहसिक पर्यटकों की खोजबीन के लिए हवाई मार्ग से रेस्क्यू आपरेशन शुरू करने की तैयारी शुरू हो गई है।

कपकोट के एसडीएम परितोष वर्मा से मिली जानकारी के अनुसार सुन्दरढूंगा घाटी की तरफ एसडीआरएफ और एक स्वास्थ्य कर्मियों की साझा टीम रवाना हो गई है। उन्होंने बताया कि द्वाली में 8 विदेशीयों के साथ ही 10 स्वदेशीयों समेत 34 लोग फंसे हुए हैं। जबकि 20 लोग कफनी ग्लेशियर की तरफ हैं। सुन्दरढूंगा से लौटे नेपाली मूल के सुरेंद्र पुत्र हरक सिंह ने बताया कि 4 पर्यटकों की मौत हो चुकी है और 2 लापता हैं और एक घायल समेत 4 लोग खाती गांव वापस लौट आए हैं। इधर जिलाधिकारी विनीत कुमार के निर्देशन में तहसील कपकोट से राजस्व विभाग व पुलिस विभाग एवं वन विभाग के कार्मिकों की 02 टीमें गत दिवस ही रवाना हो चुकी हैं। आज कपकोट से दो अन्य टीमों को भेज दिया गया है। हेलीकॉप्टर से बचाव कार्य शुरू होने की भी जानकारी है।


👉👉  ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

उल्लेखनीय है कि सुंदरढुंगा ग्लेशियर पिंडर घाटी के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है। बागेश्वर जिला सुंदरढुंगा ग्लेशियर के लिए एक ट्रेकिंग बेस के रूप में कार्य करता है, जो लोहरखेत की ओर जाता है। लोहाखेत से एक 11 किमी ट्रेक धाकुरी की ओर जाता है; यहाँ से 11 किलोमीटर दूर खाती गाँव है। खाती से 8 किमी की ट्रेक जैतोली की ओर जाती है और जैतोली से 22 किमी की ट्रेक अंत में सुंदर डूंगर घाटी की ओर जाती है खाती गाँव तक का ट्रैकिंग मार्ग पिंडारी, काफनी और सुंदरढुंगा ग्लेशियर के बीच प्रचलित है। इस ट्रेक के दौरान स्पष्ट रूप से दिखाई देने वाली बर्फ से ढकी चोटियां मृगथुनी, मैकटाइल, पनवलीश्वर और थारकोट हैं। सुंदरढुंगा की यात्रा जैतोली, दुधिया धूंग और कथालिया से होकर जाती है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here