धारी : परमानंद पुरी महाराज का 131वां जन्मोत्सव दस अक्टूबर को लीलावती आश्रम में मनाया जाएगा

11
परमानंद पुरी महाराज

धारी। सोमवारी बाबा महाराज के अनन्य भक्त परमानंद पुरी महाराज का 131वां जन्मोत्सव दस अक्टूबर को धूमधाम से मनाया जाएगा। इसके लिए भक्तों ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। महाराज के परम भक्त व समाजसेवी चन्द्रमोहन पनेरू ने बताया कि महाराज का जन्म 1889 में हुआ है और इस बार उनका 131 वां जन्मदिन धारी ब्लाक के सरना स्थित लीलावती आश्रम परमहंस कुटीर में बड़ी श्रद्धा और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा।

इस अवसर पर आश्रम में शुक्रवार से अखंड रामायण पाठ भी कराया जाएगा और दस अक्टूबर (शनिवार) को विशाल भंडारे के साथ पारायण कर महाराज का जन्मदिन मनाया जाएगा। उन्होंने महाराज के सभी भक्तों को आयोजन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। बता दें कि परमानंद पुरी महाराज में अगाध निष्ठा और श्रद्धा के कारण ही चन्द्रमोहन पनेरू ने बीते अगस्त माह में ही लीलावती आश्रम परमानंद कुटीर का स्वयं के संसाधनों के बल पर निर्माण कराया है। वर्तमान में महाराज इसी आश्रम में योग साधना में लीन रहते हैं।

👍 सीएनई के फेसबुक पेज को लाइक करें

👉 सीएनई के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें

🔥 सीएनई के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

परमानंद पुरी महाराज चिकित्सक रहे हैं और हिंदी-अंग्रेजी के ज्ञाता भी हैं

परमानंद पुरी महाराज के भक्तों के अनुसार दुनिया के सर्वाधिक बुजुर्ग होने का दावा करने वाले परमानंद पुरी वर्तमान में पूर्व सीएम स्व. एनडी तिवारी के गांव धारी स्थित श्री 1008 सोमवारी बाबा आश्रम में साधु के रूप में रहते आए हैं। फिलहाल वे निकट के सरना गांव में बने लीलावती सदन परमहंस कुटीर आश्रम में रह रहे हैं। उनके भक्तों ने दावा किया है कि महाराज का जन्म 1889 में कश्मीर में हुआ था। बताया कि 1920 से 31 तक उन्होंने आसाम के एक सरकारी अस्पताल में बतौर चिकित्सक कार्य भी किया और वर्ष 1932 में संन्यास ग्रहण कर लिया।

इस दौरान उन्होंने कनाडा, जर्मनी, स्वीडन, नार्वे व अमरिका सहित 10 देशों की यात्रा भी की। वह हिंदी-अंग्रेजी सहित 12 भाषाओं के भी अच्छे ज्ञाता हैं। वर्ष 1991 से वह पदमपुरी आश्रम में रहते हैं। फिलहाल सरना स्थिम आश्रम में ध्यान साधना में लीन रहते हैं। भारत सहित विदेशों में उनके हजारों भक्त हैं, जो आज भी उनसें मिलने आते रहते है। सामान्य भोजन के साथ वह नियमित तौर पर पूजा और व्यायाम करतें है।

14 साल तक बिना छत के खुले में और फल-फूल खा कर तथा तीन दिन तक एक ही स्थान पर बिना कुछ खाये-पिये भी रहे हैं। भीमताल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावली-2015 के तहत बनी गुनियालेख ग्राम पंचायत तहसील धारी की सूची के क्रमांक 309 में उनका नाम परमानन्द पुरी पुत्र स्वामी विशु आनन्द, मकान नं 63 और पहचान पत्र क्रमांक एपीजी 0226761 दर्ज किया गया है।

जिसका घर वाले कर चुके थे अंतिम संस्कार, वो 4 साल बाद बच्ची के साथ लौटी वापस

Previous articleकिच्छा : कांग्रेसी नेताओं की ड्रामेबाजी समझ चुकी है जनता : राय
Next articleनालागढ़ : लोगों को आने-जाने में हो रही थी परेशानी, विधायक ने शुरू करवाया रास्ते का निर्माण कार्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here