देहरादून| आदि कैलाश मार्ग में स्थिति चीन सीमा को जोड़ने वाला 35 मीटर लंबा बैली ब्रिज ध्वस्त हो गया। यह घटना उस समय हुई जब बीआरओ का एक खाली टिप्पर पुल से गुजर रहा था। बीआरओ ध्वस्त पुल को सुधारने में जुट गया है। इसके अलावा वैकल्पिक मार्ग भी बनाया जा रहा है। पुल टूटने से अग्रिम चौकियों का संपर्क सड़क मार्ग से कट गया है।

धारचूला तहसीलदार देवेंद्र लोहानी ने बताया कि, पिथौरागढ़ जिले की धारचूला तहसील के कुटी गांव के नाले पर बना 35 मीटर लंबा पुल सोमवार को गिर गया। इससे गुजर रहा एक वाहन भी फंस गया। कोई हताहत नहीं हुआ।

दरअसल बीआरओ ने करीब दो वर्ष पहले आदि कैलाश मोटर मार्ग में गुंजी नाबी से कुटी के बीच में नहल गाड़ में बैली ब्रिज बनाया था। इसी पुल से चीन सीमा के लिए वाहनों की आवाजाही होती थी। नहल गाड़ में सोमवार को बीआरओ का खाली वाहन जैसे ही बीच पुल पर पहुंचा तो अचानक बैली ब्रिज ध्वस्त हो गया।


गनीमत यह रही कि वाहन चालक या किसी को भी पुल ध्वस्त होने से गंभीर चोटें नहीं आईं। पुल ध्वस्त होने से भारत के अंतिम गांव कुटी और सेना की अग्रिम चौकियों का सड़क संपर्क कट गया है। हालांकि वाहनों के लिए वैकल्पिक मार्ग तैयार किया जा रहा है।

यह भी पढ़े : हल्द्वानी : 1 किलो सेब, नाशपाती व अनार चोरी होने पर दर्ज कराई रिपोर्ट, जांच शुरू

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here