अल्मोड़ाउत्तरकाशीउत्तराखंडऊधमसिंह नगरकोविड-19चमोलीचम्पावतटेहरी गढ़वालदेहरादूननैनीतालपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरब्रेकिंग न्यूजरुद्रप्रयागहरिद्वार

कोविड-19 विशेष : ऐसे तो बीस जनवरी-21 तक प्रदेश में एक लाख हो जाएंगे कोरोना संक्रमित, देखें आपके जिले का हाल आंकड़ों में

हल्द्वानी। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्रदेश में अब तक पाए गए कुल संक्रमित मामलों की संख्या धीरे-धीरे एक लाख के नजदीक बढ़ रही है। अब तक 71256 मरीज सामने आ चुके हैं। फिलहाल प्रतिदिन लगभग पांच सौ नए संक्रमितों का पता चल रहा है यदि यही क्रम रहा तो 20 जनवरी तक प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा एक लाख हो जाएगा। ऐसे ही कोरोना के कारण दम तोड़ने वालों का प्रतिदिन का आंकड़ा भी सात व्यक्ति के आसपास चल रहा है इस प्रकार यदि यही क्रम रहा तो 20 जनवरी तक प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या डेढ हजार के आसपास होगी। फिलहाल प्रदेश में कोरोना से रिकवरी प्रतिशत 91.36 है। यानी सौ में से लगभग 91 लोग कोरोना को मात देने में सफल हो रहे हैं।

अब तक सबसे ज्यादा कोरोना पीड़ित प्रदेश की राजधानी देहरादून में सामने आए हैं। यहां अब तक 20101 केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 17996 लोगों ने कोरोना का मात भी दी है। जबकि 640 लोग कोरोना से जंग हार गए। अभी जिले के चिकित्सालयों में 1254 लोगों का इलाज चल रहा है।
दूसरे स्थान पर प्रदेश की धार्मिक राजधानी हरिद्वार आती है। यहां अब तक 11732 केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 11130 मरीजों ने कोरोना का पटखनी दी। इनमें से 131लोग कोरोना से जिंदगी अैर मौत की जंग हार गए। यहां के 399 लोगों अभी चिकित्सालयों में कोरोना से जंग लड़ रहे हैं।
तीसरे स्थान पर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी उधमसिंह नगर आती है। यहां अब तक 10078 कोरोना संक्रमितों की पहचान हो चुकी हैं। इनमें से 9617 लोगों ने कोरोना को हरा कर घर वापसी की है जबकि 103 लोग कोरोना से हार कर मौत का शिकार हो चुके हैं। 252 लोगों का इलाज चिकित्सालयों में चल रहा है।

कोरोना संक्रमण के लिहाज से चौथे स्थान पर आती है प्रदेश की पर्यटन राजधानी नैनीताल। यहां अभी तक 8229 केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 7603 लोगों को स्वास्थ्य लाभ के बाद घर भेजा जा चुका है। जबकि 162 मरीजों ने इस जानलेवा बीमारी से जूझते हुए दम तोड़ा है। जिले में 421 लोग अभी भी कोरोना से जूझ रहे हैं।
महामारी संक्रमण के मामले में पांचवें स्थान पर पौड़ी आता है। यहां 3933 लोग अब तक कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 3377 लोग कोरोना से जंग जीत कर घर लाट चुके हैं। जबकि 42 लोगों की मौत हो चुकी है। 490 लोग अभी भी चिकित्सालयों में अपना इलाज करवा रहे हैं।

टिहरी गढ़वाल में इस लिहाज से छठे स्थान पर आता है। यहां 3459 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें से 3129 लोगों ने कोरोना का मात दी है। जबकि 8 लोगों को कोरोना ने मात दी है। 287 लोग अभी भी अपना इलाज करा रहे हैं।
सातवें स्थान पर उत्तरकाशी आता है, जहां अब तक 2943 लोगों में कोरोना का संक्रमण हो चुका है। 2729 लोगों ने कोरोना को हरा कर घर वापसी की है। जबकि 11 लोगों ने इस बीमारी के कारण दम भी तोड़ा है। यहां 150 लोग अभी भी चिकित्सालयों में अपना इलाज करवा रहे हैं।

आठवें स्थान पर गढ़वाल मंडल का चमोली जिला आता है। यहां अब तक 2469 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 2147 लोगों कोरोना से जंग जीतकर घर लौटे जबकि सात लोगों ने कोरोना के कारण दम तोड़ा। 284 लोग अभी भी अपना इलाज करवा रहे हैं।
नौवें स्थान पर अल्मोड़ा जिला आता है। यहां अब तक 2217 लोगों में कोरोना संक्रमण डिटेक्ट किया जा चुका है। 1972 लोगों ने कोरोना से जंग जीती तो 13 लोगों को कोरोना ने अपना शिकार बना कर मौत दे दी। अभी जिले में 197 लोग अपना उपचार करवा रहे हैं।

दसवें स्थान पर पिथौरागढ़ आता है। जहां अब तक 1938 केस ट्रेस किये जा चुके हैं। इनमें से 1675 लोगों ने कोरोना से जंग जीतकर घर वापसी की। जबकि 16 लोग कोरोना के आगे दम तोड़ गए। 247 लोग अभी भी चिकित्सालय में उपचार करवा रहे हैं।
11वें स्थान पर रुद्रप्रयाग आता है। यहां 1784 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। जबकि 1626 लोगों ने कोरोना को मात दी है। 7 लोगों ने इस बीमारी के कारण दम भी तोड़ा है। 145 लोग जिले में अभी भी अपना इलाज करवा रहे हैं।
12वें स्थान पर चंपावत आता है जहां अब तक 1259 लोगों में कोरोना की अब तक पुष्टि हे चुकी हैं। 1131 लोगों ने कोरोना को हरा कर घर वापसी की है। जिले में 6लोगों की कोरोना की वजह से मौत भी हुई है। जिले में 106 केस एक्टिव है।

13 स्थान पर बागेश्वर जिला आता है। यहां 1114 लोगों में अब तक कोरोना संक्रमण पाया गया। इनमें से 970 लोगों ने कोरोना से जंग जीतकर घर वापसी की। जबकि 9 लोगों ने अब तक कोरोना के कारण दम भी तोड़ा है। 135 लोगों का कोविड केयर सेंटर में इलाज चल रहा है।

लो जी, हरदा ने खोल दिए पत्ते, कब लेंगे सन्यास, बताया फेसबुक पर

Leave a Comment!

error: Content is protected !!