उत्तराखंडनैनीताल

धारी न्यूज : आजादी के 73 साल बाद भी ख्वाब ही है बिरसिंग्या तोक तक सड़क का निर्माण

धारी। धारी ब्लॉक के ग्राम सभा में बबियाड के तोक बिरसिंग्याॅ जो मुख्य सड़क से 5 किलोमीटर दूरी पर एक अनुसूचित जाति बाहुल्य क्षेत्र है, जहां आजादी से आज तक गांव की सड़क के लिए ग्रामीण लड़ते आ रहे हैं, लेकिन क्षेत्र के प्रतिनिधियों द्वारा ग्रामीणों को झूठा आश्वासन दिया जा रहा है, चुनाव के समय में प्रतिनिधियों द्वारा सड़क का सर्वे तक किया जाता है रहा है, लेकिन चुनाव के बाद यह सब यहां के जनप्रतिनिधियों के लिए बीती बात हो जाता है। सड़क के अभाव में जहां किसानों की पकी फसल खेतों में ही बर्बाद हो जाती है। स्कूल दूर और जंगल के रास्ता होने की वजह से यहां के बालिकाओं को शिक्षा ग्रहण करने का ख्वाब ख्वाह ही रह जाता है। यह वही इलाका है जहां गर्भवती महिलाओं को प्रसव के समय अपनी जान हथेली में रखकर लकड़ी के डोली में मुख्य सड़क तक पहुंचना होता है। फिर भी सरकार खामोश है ग्रामीणों द्वारा बार-बार सरकार से अनुरोध करके अब गांव वाले थक चुके हैं।

जिसके लिए ग्रामीणों ने वन विभाग को 90 हेक्टेयर भूमि हस्तांतरण भी कर चुके हैं, सरकार द्वारा वन विभाग को 53 लाख की धनराशि जमा करनी थी। जो लंबा समय बीतने के बाद भी जमा नहीं हो पाई है, जिसके चलते सड़क निर्माण कार्य नहीं हो पा रहा है, क्षेत्रीय सामाजिक कार्यकर्ता रमेश चंद्र टम्टा ने कहा कि भीमताल विधायक राम सिंह कैड़ा ने अपनी विधायक निधि से ग्रामीणों के लिए 2 किलोमीटर सड़क का निर्माण कराया था, लेकिन इस कायर्ग्व को विभाग ने रोक दिया है, शासन प्रशासन की उपेक्षा पूर्ण रवैये से ग्रामीणों में निराश बनी हुई है। वह अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं, कांग्रेस नेता मनोज शर्मा ने कहा कि कुछ महीने पहले जिलाधिकारी नैनीताल सविन बंसल द्वारा गाँव में एकदिवसीय कैम्प लगाया गया था, जिसमें ग्रामीणों की सड़क की मांग ही मुख्य रूप से उठाई थी।

इस पर जिलाधिकारी ने यह सड़क जिला योजना से निकाल कर केंद्र सरकार की योजना में डाल दी है, लेकिन अभी तक उसका कोई समाधान नहीं हुआ,जिलाधिकारी की ओर ग्रामीण की अभी भी आस बनी हुई है। दरअसल सविन बंसल ही पहले अधिकारी थे जो देश आजाद होने के पहली बार गांव पहुंचे और ग्रामीणों की कई समस्याओं का तुरंत समाधान किया। ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री से अनुसूचित जाति समाज के लोगों की समस्या को दृष्टिगत रखते हुए जल्द बिरसिंग्याॅ गांव के लिए सड़क की मांग की है। क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता रमेश चंद्र टम्टा, कांग्रेस नेता मनोज शर्मा, पूर्व प्रधान जयराम, प्रमोद कुमार, चंद्रप्रकाश आदि लोगों का कहना है बेहद ही खूबसूरत इस गांव को यदि सड़क की सुविधा मिल जाए तो यहां पर्यटन के रास्ते भी खुल सकेंगे।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!