बागेश्वर धाम
बागेश्वर धाम के दरबार में अंधविश्वास जैसी कोई चीज नहीं

CNE NEWS : नागपुर पुलिस ने बागेश्वर धाम (Bageshwar Dham) के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र शास्त्री (Dhirendra Shastri) को अंध विश्वास फैलाने संबंधी आरोपों के मामले में क्लीन चिट दी है। पुलिस ने साफ कहा है कि उनके हर वीडियो की जांच की गई, जिसमें अंधश्रद्धा या अंधविश्वास जैसी कोई चीज सामने नहीं आई है। अब पुलिस ने इस मामले में अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति को लिखित जवाब भेजा है।

बता दें कि नागपुर की अंधश्रद्धा उन्मूलन समिति द्वारा एक शिकायत की गई थी। जिसमें कहा गया है कि बागेश्वर धाम के महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री अंधविश्वास फैलाते हुए जनता को गुमराह कर रहे हैं। यह मामला पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था। अब नागपुर पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में बड़ी बात कही है।

Advertisement

पुलिस ने वीडियो की गहनता से जांच की। जिसके उपरांत कहा कि वीडियो देखने पर साफ हो गया है कि इसमें कुछ भी धर्म के प्रचार से जुड़ी चीज नहीं है। अंधश्रद्धा या अंधविश्वास जैसा भी कुछ नहीं। बस इतना है कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री लोगों की समस्याओं को उससे बिना पूछे कागज पर लिख देते हैं। इसके बाद बिना बताए ही लोगों के मन की बात भी जान लेते हैं। यह दावे जनता कर रही है, धीरेंद्र शास्त्री नहीं। अतएव उन पर लगे सभी आरोप निराधार हैं।

जानिये समिति को कहां थी दिक्कत

याद दिला दें कि गत दिनों नागपुर में जब श्रीराम कथा के दौरान बाबा का दरबार लगा था। अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने इस दौरान बहुत हल्ला मचाया। जिस कारण 13 जनवरी तक आयोजित होने वाली कथा 11 जनवरी तक ही चल सकी। समिति ने आरोप लगाया था कि धीरेंद्र शास्त्री जादू-टोना और अंधश्रद्धा फैला रहे हैं। समिति के अध्यक्ष श्याम मानव ने कहा कि ‘दिव्य दरबार’ और ‘प्रेत दरबार’ की आड़ में बाबा जादू टोना को बढ़ावा देते हैं। इसके अलावा, घर्म के नाम पर आम लोगों को लूटने,ल धोखाधड़ी और शोषण भी किया जा रहा है। बकायदा समिति ने धीरेंद्र शास्त्री को चुनौती तक दे डाली थी। समिति के संस्थापक श्याम मानव अपने द्वारा दूसरे कमरे में रखी गई 10 वस्तुओं की जानकारी देने का चैलेंज और उसके पूरा होने पर 30 लाख रूपए दिए जाने का चैलेंज दिया गया था। यह भी उल्लेखनीय है धीरेंद्र शास्त्री ने उक्त चैलेंज को स्वीकार कर लिया है। उनका मानना है कि वो कोई चमत्कार नहीं करते हैं, यह सब प्रभू हनुमान जी की कृपा है। ज्ञात हो कि छतरपुर बागेश्‍वर धाम के पीठाधीश्‍वर पंडित धीरेंद्र कृष्‍ण शास्‍त्री अपने दिव्‍य दरबार को लेकर लगातार चर्चा में छाए हुए हैं। एक बड़ा वर्ग जहां उनकी प्रशंसा कर रहा है, वहीं बहुत से लोग उन पर अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगा रहे हैं।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here