✒️ कुत्ते खरीदने हैं तो यहां आइये

✒️ उत्तरायणी कौतिक और डॉग मार्केट

Bhotia dog market, know about the breed

उत्तराखंड के कुमाऊं जनपद में एक मेला ऐसा भी है, जिसके प्रमुख आकर्षकों में यहां लगने वाली डॉग मार्केट है। इस मेले में खास तौर पर भोटिया कुत्तों (Bhotia dog : The Indian Tibetian Mastiff) को खरीदने के लिए बड़ी संख्या में तमाम जनपदों से डॉग लवर्स पहुंचते हैं।

यहां बिकने वाले कुत्तों की कीमत 02 हजार से 25 हजार के बीच रहती है। उल्लेखनीय है कि बागेश्वर में प्रति वर्ष 14 जनवरी से लगने वाले उत्तरायणी मेले के दौरान लगने वाली बाजार में काफी संख्या में पहाड़ी जनपदों से डॉग ब्रीडर्स पहुंचते हैं। यह व्यापारी मेला अवधि में बागेश्वर बाछम, पिंडारी, खाती, झूनी, पेठी, बदियाकोट, मुनस्यारी, दानपुर आदि ठंडे इलाकों से आते हैं। इन व्यापारियों के पास भोटिया, जुमररिया और देशी कुत्ते बिक्री के लिए रहते हैं।भोटिया बाजार में कुत्तों को खरीदने के लिए ग्राहकों की बड़ी भीड़ उमड़ती है। इसके बावजूद इन कुत्तों की खरीद के लिए काफी मोल-भाव करना पड़ता है। इसके अलावा कुत्तों की खरीद के समय किसी जानकार व्यक्ति को अपने साथ ले जाना चाहिए। कई बार भोटिया कुत्तों की सही पहचान नहीं होने पर लोग यहां ठगे भी जाते हैं।

Advertisement
bhotia dog
Bhotiya dog

जानिये, भोटिया कुत्तों (Bhotiya dog) के बारे में रोचक तथ्य

✒️ पहाड़ी भोटिया कुत्ता एक बेहद ताकतवर और होशियार नस्ल है। इसके शुद्ध प्रजाति उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पायी जाती है। वहीं, निचले पहाड़ों और मैदानी इलाकों में जो भोटिया कुत्ते पाये जाते हैं वह एक मिक्स ब्रीड होती है, जिन्हें कहीं से भी ऑरिजनल नस्ल (original breed) नहीं कहा जा सकता है।

✒️ उत्तराखंड में इन्हें लोग मुख्यत: अपने मवेशियों की सुरक्षा के लिए पालते हैं। यही कारण है कि डॉग एक्सपर्ट इन्हें एक वॉच डॉग (चौकीदार) की श्रेणी में रखते हैं। पहाड़ों में भेड़-बकरियों की सुरक्षा यह बेखूबी करते हैं। कई गांवों में चारवाहों के साथ हजारों भेड़-बकरियों के साथ-साथ यह चलते हैं और बाघ, गुलदार जैसे हिंसक वन्य जीवों से मवेशियों की सुरक्षा करते हैं।

✒️ भोटिया कुत्ते दरअसल तिब्बतन मस्टिफ (tibetan mastiff) की ही एक प्रजाति है। यह मुख्यत: काले रंग के होते हैं। इनका जबड़ा भारी, बदन गठीला होता है। इनकी सबसे बड़ी पहचान ही इनका शांत स्वभाव है। यह दिन के समय निष्क्रिय और रात गहराने पर ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं। ठंड इनकी आराम से कटती है, जबकि गर्मी इन्हें काफी परेशान करती है।

भोटिया कुत्तों को लेकर मिथक –

अमूमन समाज में भोटिया कुत्तों को लेकर काफी मिथक भी हैं। सोशल मीडिया में इन्हें ‘बाघ’ का शिकारी तक कहकर प्रचारित किया जाता रहा है, जो बिल्कुल भी सत्य नहीं है। सच्चाई तो यह है कि भोटिया कुत्ते बहुत निडर होने के साथ शांत भी होते हैं। यह अकारण किसी पर हमला नहीं करते, लेकिन खतरा महसूस होने पर बाघ या गुलदार से भिड़ जाते हैं। इसके बावजूद यह बाघ यानी टाइगर का कतई मुकाबला नहीं कर सकते।

टाइगर बड़े-बड़े जंगली भैंसों और यहां तक कि कई बार हाथी तक का शिकार कर लिया करते हैं। अतएव टाइगर और भोटिया कुत्तों की लड़ाई का कोई मतलब नहीं है। हालांकि गुलदार यानी लैपर्ड को यह जरूर मार सकते हैं, लेकिन एक अकेला भोटिया कुत्ता गुलदार से भी नहीं जीत सकता है। इसके लिए इन्हें दो या तीन से अधिक की संख्या में होना चाहिए। यही कारण है कि पहाड़ों में चारवाहे अकसर आधे दर्जन से अधिक भोटिया कुत्तों को मवेशियों के झुंड में लेकर चलते हैं। यदि भोटिया कुत्ते झुंड में तेंदुवे से लड़ें तो ऐसे कई प्रसंग है कि इन्होंने गुलदार को भी मार डाला है।

FAQ (frequently asked questions)

Q 1  भोटिया कुत्ते की पहचान कैसे करें ?

ans – भोटिया कुत्ते (Bhotiya dog) मुख्य रूप से तिब्बतन मस्टिफ की एक प्रजाति है। इसकी पहचान के सबसे अहम तरीका इसका रंग है और यह ज्यादातर काले रंग के होते हैं। इनका भारी जबड़ा होता है। बदन गठीला और सुडोल होगा तथा यह बहुत शांत स्वभाव के होंगे। किसी अन्य कुत्ते या इंसान पर यह बिना कारण कभी नहीं भौंकते हैं।

Q 2 पहाड़ी कुत्ते कैसे होते हैं ?

ans – पहाड़ी कुत्तों की जब हम बात करते हैं तो हिमालयी जनपदों में ठंडे इलाकों में रहने वाले भोटिया कुत्तों का ही जिक्र मुख्य रूप से आता है। यह घने बाल वाले और गठीले शरीर के निडर किस्म की प्रजाति होती है। पहाड़ों में बकरियां लेकर बुग्याल और उच्च हिमालयी क्षेत्रों में रहने वाले चरवाहों के पास ये कुत्ता अधिकांशत: मिल जाता है। यह पालतू मवेशियों की हिफाजत के लिए नियुक्त किये जाते हैं।

Q 3 हिमालयी कुत्ते क्या होते हैं ?

ans – हिमालयी कुत्तों को भेड़ों के रखवाले के रूप में जाना जाता है। इस प्रजाति के कुत्तों को भोटिया (Bhotiya dog), बंगारा या गद्दी कुत्ते आदि नामों से जाना जाता है। यह वास्तव में हिमालयन मास्टिफ की प्रजाति हैं। यह उत्तराखंड के हिमालयी भू-भागों के निकट पाये जाते हैं। हिमालयन डॉग पूर्वी नेपाल से लेकर कश्मीर तक की हिमालय की तलहटी में मिल जाता है।

Learn More Bhotiya Dog/भोटिया कुत्ते के बारे में विस्तार से जानें

Read More

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here