नई दिल्ली| शनिवार सुबह 10 से 10:30 बजे के बीच बड़ा हादसा हुआ। एयरफोर्स के दो फाइटर प्लेन सुखोई-30 और मिराज-2000 एयरक्रॉफ्ट आपस में टकराकर क्रैश हो गए। मिराज में एक और सुखोई में दो पायलट सवार थे। इनमें से एक पायलट की मौत हो गई है। अभी यह साफ नहीं है कि यह पायलट किस एयरक्राफ्ट का था।

अब तक की जानकारी के मुताबिक टकराने के बाद दोनों विमानों के दो अलग-अलग जगहों पर गिरने की आशंका है। एक प्लेन मध्यप्रदेश के मुरैना के पहाड़गढ़ में और दूसरे के राजस्थान के भरतपुर के पिंगोरा में गिरने की बात कही जा रही है।

Advertisement

मिली सूचना के मुताबिक, मुरैना में मिराज और भरतपुर में सुखोई गिरा है। पहले मुरैना में सुखोई और भरतपुर में मिराज गिरने की बात कही जा रही थी। हादसे में क्रैश हुए दोनों फाइटर जेट ने ग्वालियर एयरबेस से उड़ान भरी थी।

मुरैना कलेक्टर ने कहा- दो पायलट को बचा लिया

मुरैना एसपी आशुतोष बागरी ने भास्कर को बताया कि ‘ग्वालियर एयरफोर्स स्टेशन से वायुसेना के दो विमानों के टेक ऑफ करने की जानकारी मिली थी। इनमें से एक पहाड़गढ़ में क्रैश हुआ है। हम दूसरे विमान की सर्चिंग कर रहे हैं। इधर, मुरैना कलेक्टर अंकित अस्थाना का दावा है कि दो पायलट को बचा लिया गया है।

भरतपुर के डीएसपी बोले- सुबह 10 से सवा 10 बजे जानकारी मिली थी

राजस्थान में भरतपुर के डीएसपी अजय शर्मा ने बताया कि ‘हमें सुबह 10 से सवा 10 बजे के करीब प्लेन क्रैश होने की सूचना मिली थी। मौके पर आने पर पता चला कि यह एयर फोर्स का फाइटर जेट है। हालांकि, मलबे को देखकर अभी यह पता नहीं चल पाया है कि यह कौन सा फाइटर प्लेन है। अभी तक इसके पायलट के बारे में भी जानकारी नहीं मिल पाई है।

पहाड़गढ़ में हादसे की जगह से एक पायलट का एक हाथ मिला

मुरैना में गिरे सुखोई में सवार दोनों पायलट घायल हैं। उन्हें ग्वालियर में भर्ती कराया गया है। मुरैना के पहाड़गढ़ में हादसे की जगह से एक पायलट का एक हाथ भी मिला है। आशंका है कि यह हाथ भरतपुर में गिरे मिराज एयरक्रॉफ्ट के पायलट का हो सकता है। मुरैना एसपी आशुतोष बागरी ने मीडिया को बताया कि- ‘ह्यूमन बॉडी का यह पार्ट किसका है, इस बारे में अभी कुछ नहीं कह सकता।’

पवित्र कैलाश मानसरोवर यात्रा में छाए संकट के बादल, जानिए वजह

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here