किच्छा । लॉक डाउन के बीच जहां आम जनता व गणमान्य लोगों द्वारा गरीब और निर्धन लोगों को अनाज तथा पका भोजन पहुंचा कर समाज सेवा का काम किया जा रहा है वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा गरीब लोगों के लिए भेजे गए अनाज की राशन डीलर द्वारा कालाबाजारी भी की जा रही है। कलकत्ता चौकी पुलिस ने सूचना के आधार पर कार्यवाही करते हुए गरीबों के लिए भेजे गए अनाज को बेचने जा रहे राशन डीलर के वाहन को पकड़ लिया । पुलिस ने वाहन से करीब 8 कुंटल चावल व गेहूं बरामद कर कब्जे में ले लिया । पुलिस ने वाहन चालक को भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। पुलिस की सूचना पर तहसीलदार सहित खाद्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची और मामले की जांच प्रारंभ कर दी है।
जानकारी के अनुसार कलकत्ता चौकी प्रभारी किशन कुमार सिंह को सूचना मिली कि कुछ लोगों द्वारा सरकारी सस्ता गल्ला केंद्र पर सरकार द्वारा भेजे गए अनाज की कालाबाजारी की जा रही है और गरीबों के अनाज को अवैध रूप से बेचा जा रहा है । सूचना पर कार्यवाही करते हुए चौकी पुलिस ने वाहन को पकड़ने के लिए जाल बिछाया और चेकिंग अभियान प्रारंभ कर दिया। सुबह करीब 9 बजे धौरा डाम से किच्छा की तरफ आ रहे छोटा हाथी वाहन संख्या यूके 06 सीए 9809 को पुलिस ने चेकिंग के लिए रोक लिया। इस दौरान रोके गए वाहन से पुलिस ने करीब 4 कुंतल चावल तथा 4 कुंटल गेहूं कब्जे में ले लिया । वाहन पर मौजूद व्यक्ति तथा पक्की खमरिया, लालपुर , किच्छा निवासी चालक जोगिंदर सिंह से अनाज संबंधित कागजात पूछे जाने पर वे लोग कोई कागज नहीं दिखा पाए तथा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए । चालक ने बताया कि सरकारी सस्ता गल्ला केंद्र से अनाज को किच्छा ले जाने के लिए छोटा हाथी वाहन को किराए पर बुक किया गया था। बताया जा रहा है कि धौरा डाम क्षेत्र के गल्ला धारक द्वारा गरीबों के हक पर डाका डालकर सरकारी अनाज को अवैध रूप से बेचा जा रहा है। चौकी प्रभारी किशन कुमार सिंह की सूचना पर तहसीलदार महेंद्र सिंह बिष्ट मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी लेने के बाद खाद्य पूर्ति विभाग को कार्यवाही के निर्देश दिए। मामले की सूचना पर खाद्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची और मामले की जांच प्रारंभ कर दी । बताया जा रहा है कि गल्ला धारक को क्षेत्र के एक राजनैतिक जनप्रतिनिधि का संरक्षण प्राप्त है जिसको लेकर मामले को राजनीतिक दबाव में निपटाने का प्रयास किया जा रहा है । चौकी प्रभारी किशन कुमार सिंह ने बताया कि सरकारी अनाज की कालाबाजारी किए जाने की सूचना उन्हें प्राप्त हुई थी और उसी के आधार पर चेकिंग के दौरान छोटा हाथी वाहन से सरकारी अनाज पकड़ा गया है । उन्होंने बताया कि सरकारी अनाज को तहसील प्रशासन व खाद्य विभाग के सुपुर्द कर दिया गया है और आगे की कार्यवाही खाद्य विभाग द्वारा मामले की जांच के बाद की जाएगी। फिलहाल मामले को लेकर क्षेत्र में चर्चाओं का दौर गर्म है और गल्ला धारक को बचाने के प्रयास शुरू हो गए हैं।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here