Monday, October 3, 2022

व्यंग्य लघु कथा — इंसानों ने बढ़ा दिया रूतबा

0
— रोहित यादव, हरियाणा सड़क के एक मोड़ पर दो बाइक सवार आपस में टकराकर गिर पड़े। सड़क से उठते हुए एक व्यक्ति ने गुस्से में आकर दूसरे व्यक्ति से कहा, ‘‘सूअर की औलाद, देखकर...

व्यंग्य लघु कथा : जंगल राज में किसी ने कुछ नहीं देखा

0
कृष्णा कुमार, तलवंडी, राजस्थान एक दिन जंगल में मंकू सियार की बेटी नूरी नदी पर जल भरने जा रही थी। रास्ते में उसे कालू भेड़िया छेड़ने लगा। उसने आनाकानी की, चीखी-चिल्लाई, लेकिन किसी ने एक...
error: Content is protected !!