अल्मोड़ाउत्तराखंड

हाथरस कांड : अल्मोड़ा में ठप रही सफाई व्यवस्था, सफाई कर्मियों का एक दिनी धरना—प्रदर्शन, मनीषा के लिए मांगा न्याय

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा
हाथरस कांड को लेकर यहां वाल्मिकी समाज के लोगों में आक्रोश बरकरार है। शनिवार को सफाई कर्मचारियों ने अल्मोड़ा बाजार व दफ्तरों में सफाई व्यवस्था ठप रखी। जिससे यत्र—तत्र कूड़ा कचरा बिखरा रहा। देवभूमि उत्तराखण्ड सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले पालिका परिसर में एकजुट होकर उन्होंने हाथरस कांड में मारी गई मनीषा को न्याय दिलाने के लिए आवाज बुलंद की। जबर्दस्त नारेबाजी कर गुस्से का इजहार किया।
उत्तर प्रदेश के हाथरस वाल्मिकी समाज की युवती के साथ गैंग रेप व हत्या के विरोध में देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले प्रांतीय आह्वान पर सफाई कर्मचारियों ने एक दिनी सफाई कार्य बहिष्कार किया। यहां पालिका क्षेत्र समेत सभी दफ्तरों में सफाई व्यवस्था ठप की। इससे नगर समेत कार्यालयों में दिक्कतें पैदा हो गई। सभी सफाई कर्मी पालिका परिसर में जुटे, जहां उन्होंने नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया और सभा की। संघ के नेताओं ने हाथरस कांड की पुरजोर निंदा की और वहां के जिला व पुलिस प्रशासन को जमकर कोसा। उन्होंने कहा कि मनीषा वाल्मिकी की हत्या के दोषियों को शीघ्र फांसी की सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि इस घटना को दबाने और इसमें लीपापोती करने में हाथरस पुलिस व जिला प्रशासन जिम्मेदार है। इन सभी जिम्मेदार लोगों को बर्खास्त करते हुए उन पर मुकदमा चलाने की पुरजोर मांग उठाई। साथ ही पीड़ित परिवार को एक करोड़ की सहायता प्रदान करने, भविष्य में किसी बेटी के साथ ऐसी घटना नहीं हो, इसके लिये सशक्त कानून बनाने की मांग उठाई। साथ ही दो टूक चेतावनी दी कि यदि मांगों पर गौर नहीं फरमाया गया, तो संघ के नेतृत्व में पूरे उत्तराखण्ड में अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार कर दिया जाएगा। बाद में उक्त मांगों का ज्ञापन प्रधानमंत्री को भेजा गया। सभा को संघ की अल्मोड़ा शाखा के अध्यक्ष सुरेश केसरी, महासचिव राजेश टॉक, उपाध्यक्ष सतीश कुमार, दीपक कुमार, दीपक सैलानी, राजेंद्र पवार आदि नेताओं ने संबोधित किया।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!