उत्तराखंडनैनीताल

नैनीताल : जिला योजना की धनराशि का हो पूरा सदुपयोग – जिलाधिकारी धीराज

नैनीताल। विकास भवन सभागार में जिला योजना की समीक्षा बैठक लेते हुऐ जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने योजना में अवमुक्त धनराशि के कार्यों में गति लाकर शीघ्र व्यय करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि योजना कार्यों का वित्तीय समीक्षा के साथ ही भौतिक सत्यापन भी किया जायेगा। गर्ब्याल ने रोजगार परख योजनाओं पर अधिकारी विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जो विभाग अवमुक्त धनराशि व्यय नहीं कर पा रहे हैं उस धनराशि को दूसरे विभागों को हस्तान्तरित करने के निर्देश दिये।

जिलाधिकारी गर्ब्याल ने कहा कि जनपद में सेब उद्यान विकसित करने पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। इस हेतु उन्होंने मुख्य उद्यान अधिकारी को सेब की नर्सरी तैयार करने के साथ ही सेब उत्पादन करने वालें कृषकों को चिन्हित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सेब उत्पादन में रूचि रखने वाले किसान बन्धुओं को प्रशिक्षण दिया जायेगा, इस हेतु उन्होंने उद्यान विभाग को धनराशि भी आवंटित की। जिला पर्यटन विकास अधिकारी को एस्ट्रो टूरिज्म हेतु ग्राम ताकुला व देवस्थल को मॉडल ग्राम बनाने के निर्देश दिये, साथ ही उन्होंने दूरबीन (टैलीस्कोप) क्रय करने व दोनों गांवों में भवन बनाने हेतु धनराशि भी स्वीकृत की। उन्होंने कहा कि इन ग्रामों में पर्वतीय शैली के भवन का प्रस्ताव प्रस्तुत करने के साथ ही ग्राम के युवाओं से वार्ता कर उन्हें एस्ट्रो टूरिज्म हेतु तैयार करें ताकि उन्हें प्रशिक्षण देकर दक्ष किया जा सके। उन्होंने कहा कि जनपद में युवाओं को वुडस्टॉक संस्थान से पैराग्लाइडिंग ट्रेनिंग दिलाई जायेगी ताकि युवा स्वरोजगार अपना सके।

गर्ब्याल ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि वे विकासखण्ड धारी, ओखलकाण्डा क्षेत्र में पशु कृतिम गर्भाधान चलाये ताकि क्षेत्रवासियों की आय में में वृद्धि हो सके। उन्होंने मुख्य शिक्षाधिकारी को प्राथमिक विद्यालयों का रूपान्तरण करने हेतु प्रत्येक विकासखण्ड से दस-दस विद्यालयों की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्राथमिक विद्यालयों व आंगनवाड़ी केन्द्रों न्यूट्री गार्डन बनाये जायेंगे इस हेतु उन्होंने शिक्षाधिकारी व जिला विकास अधिकारी को कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिये कहा कि इस योजना में स्वंयसहायता समूहों को भी शमिल किया जाये। उन्होंने बेतालघाट क्षेत्र में मसाले प्रोसेसिंग यूनिट का प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने मत्स्य अधिकारी को मैदानी क्षेत्रों में मछली उत्पादन हेतु तालाब बनाने हेतु काश्तकारों को प्रेरित एवं प्रोत्साहित करने के निर्देश दिये।

योजना समीक्षा दौरान जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी एलएम जोशी ने बताया कि जिला योजना के अन्तर्गत जनपद को 42 करोड़, 32 लाख, 76 हजार अवमुक्त हुए है जिसके सापेक्ष विभागों द्वारा 28 करोड़, 60 लाख रूपये व्यय किये गये हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को कार्यो में तेजी लाकर निर्धारित समय अवधि में व्यय करने के निर्देश दिये। गर्ब्याल ने जलजीवन मिशन कार्यो में तेजी लाने के निर्देश जलसंस्थान अधिकारी को दिये। उन्होंने लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के निर्देश देते हुए सभी विभागीय कार्यालयों में ऐपण डिजाइन नेम प्लेट लगाने के निर्देश भी दिये।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नरेन्द्र सिंह भण्डारी, प्रभागीय वनाधिकारी टीआर बिजूलाल, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. भागीरथी जोशी, परियोजना निदेशक अजय सिंह, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, एपीडी संगीता आर्य, मुख्य शिक्षा अधिकारी के.के. गुप्ता, मुख्य कृषि अधिकारी डी कुमार, मुख्य उद्यान अधिकारी भारती जोशी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. पीएस भण्डारी, महाप्रबन्धक उद्योग विपिन कुमार, डीटीओ अरविन्द गौड़ सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!