किच्छा न्यूज : गांव-गांव जाकर किसानों को कृषि बिलों के नुकसान बता रही कांग्रेस, नजीबाबाद ग्रामसभा में गोष्ठी

1

किच्छा । निकटवर्ती ग्राम शांतिपुरी के ग्राम सभा नजीबाबाद में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किसान जन जागरण अभियान के तहत किसान गोष्ठी का आयोजन किया । किसान गोष्ठी में पूर्व दर्जा राज्यमंत्री डॉ गणेश उपाध्याय व किसान कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष जितेंद्र सिंह संधू नेता ने किसानों को कृषि अध्यादेश के बारे में विस्तार से जानकारी दी । उन्होंने बताया कि तीन अध्यादेश लॉकडाउन के दौरान मोदी सरकार लाई थी जिसे हाल ही में लोकसभा और राज्यसभा में पास किया गया।

आपको या आपके मित्रों को हमारी खबरें उनके मोबाइल पर नहीं मिल रही हैं तो कृपया नीचे दिए गए लिंक को उनसे साझा कर क्लिक करने को कहें

👍 सीएनई के फेसबुक पेज को लाइक करें

👉 सीएनई के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें

🔥 सीएनई के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

https://chat.whatsapp.com/LVaUUTpBUk2KPGJ6rn1DkI

यह तीनों कानून देश के किसानों के लिए काला कानून है , इसे सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए, नहीं तो आने वाले वक्त में अभी तक आपने बंधुआ मजदूरों की बात सुनी होगी और यह किसान भी अब बंधुआ किसान हो जाएंगे । उन्होंने कहा कि भंडारण की व्यवस्था में चुनिंदा बड़े-बड़े उद्योगपति ,धन्ना सेठ लोगों का दबदबा रहेगा , जिनका 10 किलोमीटर से 40 किलोमीटर तक भंडार कक्ष बनेंगे , जिसमें छोटे व्यापारी ,व्यवसायी , आढती व राइस मिलें सब आने वाले वक्त में बेरोजगार हो जाएंगे । उन्होंने कहा कि दूसरा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग आज पूरे विधानसभा किच्छा में जितने भी ग्राम सभा है , बड़े-बड़े उद्योगपति किसानों से कांटेक्ट करके अपने हिसाब से फसलें पाएंगे और बुआएंगे तथा 6 महीने पहले आप के फसलों का मूल्य का निर्धारण कर देंगे , अगर उस बीच फसलों का मूल्य बढ़ता है तो आपको उसी मूल्य पर देना पड़ेगा तथा अगर आप की फसल में ओलावृष्टि से नुकसान होता है ,उसकी जिम्मेदारी आपकी अपनी ही होगी , सरकार का कोई लेना-देना नहीं होगा। उन्होंने कहा कि तीसरा न्यूनतम समर्थन मूल्य से सरकार बचना चाह रही है और यह सब जिम्मेदारी आने वाले वक्त पर उद्योगपति पर डालकर और सरकार में दबाव बनाकर उद्योगपति अपने हिसाब से न्यूनतम समर्थन मूल्य का निर्धारण कर सकेंगे ,यह होगा या नहीं , यह भविष्य में मालूम पड़ेगा । डॉ उपाध्याय ने कहा कि केंद्र सरकार जहां एक तरफ कहती है कि हम अच्छे दिन लाएंगे , किसानों की आय दुनी करेंगे , तो एक भ्रामक प्रचार है । हाल ही में आपने सुना होगा कि 20 लाख करोड़ का पैकेज मोदी सरकार ने इस लॉकडाउन में देश की स्थिति अच्छी करने के लिए दिया था। , जिसमें एक लाख करोड का पैकेज किसानों के हित के लिए किया गया , लेकिन किसानों के लिए कुछ नया नही हुआ, मात्र गुमराह किया जा रहा है । इस अवसर पर बलदेव सिंह ,बलवंत सिंह, जोगा सिंह ,कश्मीर सिंह ,रणधीर सिंह ,सुभाष सिंह ,महिपाल सिंह बोरा ,कुलदीप सिंह, गुलजार सिंह ,पंजाब सिंह, पूरन सिंह ,रामविलास, दिलेर सिंह , पंजाब सिंह,व सूरज पाल सहित दर्जनों किसान उपस्थित थे।

Previous articleविडम्बना : नेताजी कहते हैं गांव में आबादी कम इसलिए नही बनेगा मोटर मार्ग ! ठाट गांव के ग्रामीणों ने मंच के समक्ष रखी समस्या
Next articleलक्ष्मी बॉम्ब : डिस्लाइक से डरे अक्षय ने ट्रेलर से हटाया लाइक और डिस्लाइक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here