नालागढ़ : मनीषा को इंसाफ के लिए दलित समाज एवं शहरवासियों ने निकाली कैंडल मार्च

5

📰 खबरों के लिए जुड़े व्हाट्सप्प ग्रुप से 👉 Click Now 👈

नालागढ़। भारत में एक के बाद एक बेटियों के साथ हो रहे अत्याचारों को लेकर देशवासियों में जहां रोष है वही बच्चियों की सुरक्षा को लेकर भी देशवासी असुरक्षित महसूस कर रहे हैं ताजा मामला यूपी के हाथरस में मनीषा वाल्मीकि नामक बच्ची के साथ पहले गैंग रेप और उसके बाद दरिन्दगी बच्ची की जीप काटी गई पुरे शरीर की हड्डियां तोड़ दी गई उसके बाद अस्पताल में सही इलाज ना मिलने के कारण बच्ची की मौत हो गई। पुलिस ने उसके परिजनों को कमरे में बंद करके बच्ची के शव को रातों-रात जला दिया।

मनीषा वाल्मीकि को इंसाफ दिलवाने के लिए पूरे देश के साथ-साथ औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन के लोगों में भी खासा रोष है, इसी के चलते बुधवार को नालागढ़ में दलित समाज एवं शहर वासियों द्वारा एक कैंडल मार्च का आयोजन किया गया। कैंडल मार्च नालागढ़ के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस से शुरू होकर पूरे शहर में निकाला गया। कैंडल मार्च के दौरान केंद्र सरकार व यूपी की योगी सरकार के खिलाफ लोगों का गुस्सा इस कदर देखा गया,

कि लोगों ने केंद्र की मोदी सरकार व यूपी की योगी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रोष प्रदर्शन किया प्रदर्शनकारियों ने केंद्र की मोदी सरकार में योगी सरकार को चेतावनी देकर कहा है कि अगर जल्द ही मनीषा दोषियों को फांसी की सजा नहीं सुनाई गई तो वह पूरे देश में एकत्रित होकर आंदोलन करने को मजबूर होंगे प्रदर्शनकारियों ने साफ कहा है कि अगर जल्द ही मनीषा वाल्मीकि को इंसाफ नहीं दिया गया तो हिमाचल ही नहीं बल्कि कन्याकुमारी से लेकर दिल्ली तक आंदोलन किया जाएगा।

इस बारे में मीडिया से बातचीत करते हुए प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पहले दिल्ली में निर्भया कांड और शिमला में गुड़िया कांड और अब मनीष वाल्मीकि के साथ दरिंदगी। देश में एक के बाद एक बच्चियों से दरिंदगी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं लोगों ने केंद्र की मोदी व यूपी की योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि देश में हर घंटे कहीं ना कहीं एक बच्ची दुराचार का शिकार हो रही है और देश में इस तरह की घटनाएं बढ़ती जा रही है प्रदर्शनकारियों का कहना है कि एक बेटी को रातों-रात जेड सिक्योरिटी दे दी गई

लेकिन यूपी में मनीषा वाल्मीकि के साथ 14 सितंबर को पहले गैंगरेप किया गया और उसके बाद उसके शरीर की हड्डियां तोड़ दी गई और उसे सही इलाज ना मिलने के कारण मौत हो गई। प्रदर्शनकारियों ने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि अभी भी मनीषा वाल्मीकि को इंसाफ नहीं दिया गया है और अभी भी दरिंदे खुलेआम घूम रहे हैं प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मोदी सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के बड़े-बड़े अभियान तो चला रही है लेकिन बेटियों को सुरक्षा देने में केंद्र की मोदी सरकार नाकाम रही है प्रदर्शनकारियों ने कहा है कि कि अगर जल्द ही निशा वाल्मीकि के दरिंदों को फांसी की सजा नहीं दी गई तो वे आने वाले दिनों में पूरे देश में आंदोलन करने को मजबूर होंगे।

हिमाचल की खबरें मोबाइल पर पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे https://chat.whatsapp.com/
FdXfaGaJxHuIJXXUxifzRb

Previous articleरामनगर : पुरानी पेंशन स्कीम की मांग को लेकर कर्मचारी शिक्षकों ने फीते बांध मनाया काला दिवस
Next articleबागेश्वर न्यूज : नवागत एसपी बोले- जनता का दिल जीतने का करेंगे प्रयास, जारी रहेगी नशे के खिलाफ पुलिस की मुहीम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here