⏩ जीआईसी और रघुनाथ सिटी मॉल में मॉक ड्रिल

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा

Earthquake and Landslide Mock Drill Mock Drill in Almora : अल्मोड़ा आज सुबह जब अचानक तेज सायरन की आवाज गूंजी तो तमाम लोग सकते में आ गए। हर कोई एक—दूसरे को फोन कर यह जानने का प्रयास कर रहा था कि अचानक यह क्या हुआ है। दरअसल, यह सेना, एनडीआरएफ और एसडीआरफी की भूकंप और भूस्खलन की मॉक ड्रिल थी। जहां बचाव दलों ने जीआईसी व रघुनाथ सिटी माल में सफलतापूर्वक रेस्क्यू अभियान को अंजाम दिया।


डीएम वंदना सिंह के दिशा—निर्देशन में जिला स्तरीय भूकंप व भूस्खलन की मॉक ड्रिल का आयोजन एनडीआएफ, एसडीआरएफ व जिले की कई अन्य संस्थाओं द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। डीएम के निर्देश पर इस हेतु तीन टास्क फोर्स का गठन किया गया था।

टास्क फोर्स प्रथम का नेतृत्व निरीक्षक एनडीआएफ अमीर चंद द्वारा किया गया। जिनकी टीम में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना व पीआरडी, होमगार्ड के अतिरिक्त जनपद के अन्य विभागों के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

भूकंप की सूचना से मचा हड़कंप

प्रथम टास्क फोर्स को जिला कंट्रोल रूम द्वारा सुबह 7 बजकर 33 मिनट पर सूचना मिली कि अल्मोड़ा में भूकंप आने के बाद सिटी मॉल में कुछ लोग फंसे हुए हैं। सूचना मिलते ही टीम अमीर चंद के नेतृत्व में घटनास्थल को रवाना हुई। टीम के घटनास्थल पर पहुंचने पर देखा गया कि रघुनाथ सिटी मॉल भूकंप आने के कारण क्षतिग्रस्त हुआ है। इस दौरान पाया गया कि एक व्यक्ति बीम व कालम के मलबे के नीचे दबा हुआ है। जिसके बाद आपदा बचाव के उपकरण आर.आर. शॉ व डाडमंड चिप चेन की मदद से टीम ने कालम को काटकर गंभीर व्यक्ति को बाहर निकाला। सिटी मॉल की छत पर घायल व्यक्ति को रोप रेस्क्यू उपकरणों व स्ट्रेचर की मदद से सुरक्षित ले जाया गया। एक व्यक्ति मॉल के भीतर फंसा था, जिसे भी सुरक्षित ​निकाल लिया गया।

भूस्खलन से भी निपटा टॉस्क फोर्स

टॉस्क फोर्स द्विवतीय का नेतृत्व इंसीडेंट कमांडर निरीक्षक गजेंद्र सिंह परवाल द्वारा किया गया। निरीक्षक गजेंद्र सिंह को आपदा कंट्रोल रूम से सुबह 7.52 मिनट पर सूचना मिली कि राजकीय इंटर कालेज अल्मोड़ा में भूस्खलन होने के कारण कई लोग फंसे हुए हैं। उक्त सूचना मिलने पर निरीक्षक गजेंद्र सिंह के नेतृत्व में टीम रवाना हुई। घटनास्थल पर खोज व बचाव कार्य सुबह 8 बजकर 02 मिनट पर शुरू किया गया।

घटनास्थल पर टीम के द्वारा गंभीर घायलों को 108 के माध्यम से जिला अस्पताल भेजा गया व सामान्य घायलों का उपचार किया गया। गंभीर घायलों में व सामान्य घायलों में 06—06 लोग शामिल थे। तीन गाय, दो बैल व 12 बकरियों का भी रेस्क्यू किया गया। घटनास्थल से रेस्क्यू उपकरणों, भोजन सामग्री, जेसीबी व एंबूलेंस आदि की भी मांग की गई।

द्विवतीय टास्क फोर्स में कंपनी टूआईसी ए दल एसडीआरएफ सरियापानी निरीक्षक गजेंद्र सिंह परवाल सहित निरीक्षक बालम सिंह बजेली, कांस्टेबल हेमंत कुमार, हरीश पाण्डेय, हरपाल सिंह, गिरिदेश जोशी, सोहन चौबे मौजूद रहे। साथ ही एनडीआरएफ, सेना, पीआरडी जवान, होम गार्ड, फायर ब्रिगेड, नर्सिंग स्टॉफ सहित जिला स्तरीय विभागों के अधिकारी व कर्मचारी भी मौजूद रहे।

नैनीताल डीएम के नाम छुट्टी का फर्जी आदेश हुआ वायरल, कई स्कूल बंद – जांच के आदेश

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here