देहरादून। वन आरक्षी/वन बीट अधिकारी संघ के बैनर तले आज एक बैठक देहरादून स्थित अधिकारी संघ भवन में आयोजित की गई।

बैठक विगत लम्बे समय से लंबित मांगों को लेकर संघ के पदाधिकारियों ने सरकार के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि जल्दी समस्याओं के समाधान की दिशा में सरकार एवं वन महकमे द्वारा सकारात्मक उपाय नहीं किए गए तो अधिकारी संघ से जुड़े सभी कर्मचारी आंदोलन को बाध्य होंगे जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहां की कर्मचारी हितों की अनदेखी कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यहां देहरादून स्थिति अधिकारी संघ भवन में आयोजित वन आरक्षी/वन बीट अधिकारी संघ की एक बैठक आयोजित की गई। इस मौके पर पहुंचे वन आरक्षी/वन बीट अधिकारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष हर्षवर्धन गड़िया ने कहा कि वन महकमे में वन आरक्षियों की कमी को दूर किए जाने कि मांग काफी समय से की जा रही हैं। लेकिन कोई सुध ही नहीं ली जा रही हैं उन्होंने कहा कि अधिकारी संघ द्वारा चयन वर्ष 21-22 में पदोन्नति ना होने, वन दारोगा की सीधी भर्ती व वन दारोगा मृतक आश्रित भर्ती को रोकने सहित विभिन्न मांग की गई।


उन्होंने कहा कि संघ इन समास्याओं के निराकरण की मांग लम्बे अरसे से उठा रहा है लेकिन महकमे के उच्चअधिकारियों और सरकार से इन मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिए जाने से संघ से जुड़े कर्मचारियों में रोष व्याप्त है।

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि जल्द ही उनकी मांगों पर सकरात्मक कारवाई नहीं की गई तो सभी कर्मचारी बेमियादी कार्यबहिष्कार आंदोलन शुरू कर देंगे जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

इस मौके पर मुख्य रूप से प्रदेश संगठन मंत्री लक्ष्मण सिंह सजवाण, निद्दी सिंह, सुनील कुमार, सुशील कुमार, अमर सिंह, कैलाश सिंह, अख्तर खांन, अनुज कम्बोज, पान सिंह मेहता सहित भारी संख्या में संघ के पदाधिकारी मौजूद रहे।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here