किच्छा। किच्छा के बंडिया गांव के रहने वाले युवक के कोरोना पाजिटिव पाए जाने के बाद स्वास्थ्य महकमे की कार्यशैली पर ही सवाल उठने लगे हैं। 9 मई को गुरुग्राम से वापस लौटने के बाद स्वास्थ्य अधिकारियों ने इस व्यक्ति को होम क्वारेंटाइन करने के निर्देश दिए थे। जबकि गुरुग्राम हाट स्पाट बन चुका था। नौ से 13 मई तक यह व्यक्ति घर पर ही रहा। इस बीच ग्रामीणों का आरोप है कि वह गांव में इधर उधर घूमता भी रहा। 13 मई को जब उसकी तबीयत बिगड़ी तो उसे चिकित्सालय ले जाया गया जहां लक्षणों के आधार पर चिकित्सकों ने उसे आइसोलेशन वार्ड में रख लिया। अब जब उसके कोरोना पाजिटिव आने की पुष्टि हो गई तो विभाग के हाथ पांव फूल गए हैं। दरअसल इस व्यक्ति के परिवार तीन भाई व एक बहन और माता पिता घर पर है। अजीब बात यह है कि अभी तक उनके घर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंची है। कम से कम परिजनों को को क्वारेंटाइन किया ही जाना चाहिए।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here