AlmoraDharamJan SamasyaUttarakhand

गुरिल्लों ने ढोल-नगाड़ों के साथ न्याय देवता से मांगा न्याय

257views

अल्मोड़ा। बीते तेरह सालों से नौकरी, पेंशन की मांग को लेकर आंदोलित गुरिल्लों का सब्र जवाब दे गया। केंद्र व राज्य सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए गुरिल्लों ने बुधवार गाॅधी पार्क से चितईं गोलू देवता मंदिर तक ढोल नगाड़ों के साथ जुलूस निकाला। इस दौरान सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बाद में गोलू देवता के मंदिर में न्याय की गुहार लगाते हुए चिट्ठी( अर्जी) लगाई। तय कार्यक्रम के अनुसार गुरिल्लें चौघानपाटा में एकत्रित हुए। इसके बाद मांगों की अनदेखी करने पर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बाद में ढोल नगाड़ों के साथ गाॅधी पार्क चौघानपाटा से चितई स्थित गोलू मंदिर तक जुलूस निकाला। बाद में गोलू देवता को लिखे पत्र में गुरिल्लों ने कहा कि बीते 13 वर्षों से नौकरी, पेंशन एवं अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे है। लेकिन आज तक उनकी मांगों पर कोई कार्यवाही नहीं की गई। विगत पांच वर्षों में केंद्र सरकार व विगत दो वर्षों में राज्य सरकार द्वारा हमारी घोर उपेक्षा ही नहीं की गई। बल्कि, उनके आंदोलन को दमनात्मक ढंग से दबाने का प्रयास भी किया। उन्होंने घात में कहा कि जिसने उनके साथ जैसे व्यवहार किया उसके साथ वैसा ही व्यवहार हो। कार्यक्रम में केंद्रीय अध्यक्ष ब्रहमानद डालाकोटी, शिवराज बनौला, राजेंद्र सिंह भाकुनी, गिरीश जोशी, भुवन चंद्र चैधरी, चंद्र सिंह डसीला, खड़क सिंह, गोपाल राणा, किशन सिंह, विमल, ममता मेहता, गंगा देवी, आनंदी मेहरा, रेवती, गंगा देवी, प्रेमा देवी, शांती देवी, रेखा आर्या, महेंद्र सिंह चम्याल, बसंत लाल, गंगा बनौला आदि मौजूद थे।

Leave a Response