AlmoraEducationUttarakhand

वर्तमान दौर में गुणात्मक शोध कार्यों की आवश्यकता: प्रो. नौडियाल

82views

दस दिवसीय रिचर्स मैथडोलॉजी कोर्स का कुलपति ने किया शुभारंभ
अल्मोड़ा। आईसीएसएसआर की ओर से यूजीसी मानव संसाधन विकास केंद्र कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल में एसएसजे परिसर के शिक्षा विभाग तथा महिला अध्ययन केंद्र नैनीताल के संयुक्त तत्वाधान में सामाजिक विज्ञान के महिला शोधार्थियों के लिए दस दिवसीय रिचर्स मैथडोलॉजी कोर्स प्रो. विजया रानी के निर्देशन में प्रारंभ किया गया। कोर्स के उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डीके नौडियाल ने शोधार्थयों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में गुणात्मक शोध कार्यों की आवश्कता है। इसके लिए शोधार्थियों को शोध की प्रविधियों को गंभीरता से सीखने की आवश्यकता है। उन्होंने शोधार्थियों को इस बात के लिए भी प्रेरित किया कि शोध पत्रों को व्यवस्थित रूप से लिखना व करने की विद्या भी सीखना आवश्यक है। वर्तमान समय में शोध साहित्य की उपलब्धता की ओर भी ध्यान आकर्षित किया गया। सत्र में विभागाध्यक्ष प्रो. आरएस पथनी मानव संसाधन विकास के निदेशक तथा तकनीकी सत्र के मुख्यवक्ता प्रो. एनसी ढ़ौडियाल ने भी शोधार्थियों को संबोधित किया। प्रथम दिवस के तकनीकी सत्र के मुख्यवक्ता प्रो.एनसी ढ़ौडियाल द्वारा समाज विज्ञान में शोध कार्य के महत्व व आवश्यकता को रेखांकित करते हुये शोध प्रक्रिया के विभिन्न पक्षों पर प्रकाश डाला। द्वितीय सत्र में सामाजिक शोध में गुणात्मक, मामात्मक एवं आलोचनात्मक प्रारूपों पर चर्चा की व इन तीन प्रारूपों के तहत किये जाने वाले शोध कार्यों की प्रक्रियाओं व मूलभूत गुणों को स्पष्ट किया। इस दिवसीय कार्यक्रम में भारत वर्ष के विभिन्न विश्वविद्यालय तथा कलकत्ता, दिल्ली, लखनऊ, मेरठ गढ़वाल, हिमाचल प्रदेश, अलीगढ़, सामाजिक विज्ञान के 30 शोधार्थी प्रतिभाग कर रहे है।

Leave a Reply