अल्मोड़ाउत्तराखंड

ALMORA NEWS: स्वामी विवेकानंद जयंती पर जगह-जगह प्रतियोगिताएं; विवेकानंद के जीवन दर्शन से रूबरू हुए बच्चे; विद्यार्थियों में उत्साह

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा

स्वामी विवेकानंद की जयंती (राष्ट्रीय युवा दिवस) के मौके पर यहां विभिन्न जगहों बच्चों की प्रतियोगिताएं आयोजित कराई गई। प्रतियोगिताओं का लक्ष्य छात्र-छात्राओं में स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन से अवगत कराकर प्रेरित करना है।
इसी क्रम में स्वामी विवेकानंद अध्ययन एवं शोध केंद्र, राइंका अल्मोड़ा में भाषण व निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मोहन सिंह मनराल ने कहा कि यदि हम स्वामी विवेकानंद के मूल्यों को अपने जीवन में आत्मसात करें, तो हम हर बाधा को पार कर सकते हैं, चाहे वह बाधा कितनी बड़ी हो। प्रतियोगिताओं के मुख्य निर्णायक जगदीश पांडे ने कहा कि स्वामी जी का समग्र जीवन दर्शन युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत है। केंद्र के प्रभारी डा. ललित जलाल ने कहा कि वर्तमान में वर्तमान में भारत में युवाओं की संख्या सर्वाधिक है। इसलिए स्वामी विवेकानंद का जीवन दर्शन और ज्यादा प्रासंगिक है। निबंध प्रतियोगिता में आर्य कन्या इंका अल्मोड़ा की प्रेरणा तिवारी प्रथम, चंद्रा आर्या द्वितीय व लवली तिवारी तृतीय रही। भाषण प्रतियोगिता में जेएनवी ताड़ीखेत की काव्या पांडे प्रथम, जगदीश सिंह बिष्ट द्वितीय व आर्य कन्या की मीनाक्षी आर्या तृतीय रही। प्रतियोगिता में राइंका अल्मोड़ा, आर्य कन्या इंटर कालेज, नवोदय विद्यालय ताड़ीखेत, सैनिक स्कूल घोड़ाखाल व केंद्रीय विद्यालय अल्मोड़ा के छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया।
स्वामी विवेकानंद की जयंती के उपलक्ष्य में आज सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा में ‘स्वामी विवेकानंद जी के विचारों की उत्तराखंड राज्य के परिप्रेक्ष्य में प्रासंगिकता’ विषयक एक निबंध प्रतियोगिता कराई गई। जिसमें 132 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। परिसर के प्रभारी निदेशक प्रो. जगत सिंह बिष्ट ने बताया कि सभी महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में इस विषय पर निबंध प्रतियोगिता कराने संबंधी पत्र प्रमुख सचिव, उत्तराखंड शासन द्वारा प्रेषित किया गया था। उन्होंने बताया कि राज्यभर में आयोजित इस निबंध प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पाने वाले प्रतिभागियों को क्रमशः 1 लाख, 75 हजार और 50 हजार का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। निबंध प्रतियोगिता की संयोजक डॉ. प्रीति आर्य रही जबकि सह संयोजक के रूप में डॉ. देवेंद्र बिष्ट, डॉ. नवीन भट्ट, डॉ. भाष्कर चैधरी, डॉ. ममता असवाल, डॉ. ललित जोशी, डॉ. मुकेश सामंत, डॉ. एचआर कौशल, डॉ. दीपक टम्टा, डॉ. लता आर्या, डॉ. सतीश पांडे, डॉ. गिरजा शंकर पांडे, डॉ. अरविन्द यादव, डॉ. नरेश पंत आदि ने अपना सहयोग दिया।
सोमेश्वरः अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सोमेश्वर इकाई द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाई। जिसमें मुख्य अतिथि पूर्व छात्रसंघ कोषाध्यक्ष नरेंद्र नेगी ने युवाओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि स्वामी जी ने मात्र 25 वर्ष की छोटी आयु में संन्यास धारण कर लिया था और हिंदू धर्म और आध्यात्म की तरफ ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु रहे। उनके विचारों का युवाओं और आम जनमानस पर खासा प्रभाव पड़ा। करोड़ों लोग उन्हें आज भी अपना आदर्श मानते हैं। उन्होंने कहा कि स्वामी जी के विचारों और जीवन के सूत्रों का अनुसरण करके हम अपनी तमाम परेशानियों को खत्म कर सकते हैं। तभी भारत को परम वैभव तक पहुंचा सकते हैं। कार्यक्रम में छात्रसंघ अध्यक्ष राहुल जलाल, बालम मेहरा, पवन पांडे, नीरज राणा, भाष्कर भट्ट, कमल बिष्ट, मोहित लोहनी, विजय जोशी, धीरज जोशी, विशाल बिष्ट, गोकुल खाती व हिमांशु खाती आदि मौजूद थे।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!