उत्तराखंडबागेश्वर

बागेश्वर ब्रेकिंग : तीन महीने से लापता पुलिस के जवान की चिंता में परिजन बैठे डीएम आफिस के बाहर धरने पर

बागेश्वर। एसपी आवास बागेश्वर में तैनात एक पुलिस का जवान पिछले तीन महीने और नौ दिन से लापता है। इतने दिनों तक इंतजार करने के बाद आखिरकार उसके परिजन आज से जिला मुख्यालय पर धरने पर जा बैठे। गुमशुदा पुलिस कर्मी का पिता मोहन सिंह का कहना है कि यदि उनके लापता बेटे की पुलिस ने सरगर्मी से तलाश शुरू नहीं की तो आने वाले दिनों में वे आमरण अनशन पर बैठ जाएगें। दूसरी ओर पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि लापता जवान की तलाश की जा रही है। फिलहाल जवान के परिजनों का धरना जारी है, एडीएम एक बार उनसे मिलने आए लेकिन बिना किसी चर्चा के वापस लौट गए।

सिपाही ललित कुमार (फाइल फोटो)

मिली जानकारी के अनुसार बेरीनाग के लोहाथल निवासी पुलिस का सिपाही ललित कुमार एसपी आवास पर तैनात में गार्द में शामिल था। 10 अगस्त को उसकी रात्रि ड्यूटी थी। इसके बाद वह लापता हो गया। परिजनों के मुता​बिक घर में पांच भाई बहनों में ललित एक मात्र कमाने वाला लड़का था। उसकी तीन बहनें है और एक भाई है। उसके परिजनों ने जन्माष्टमी के खर्चे के लिए कुछ पैसे भी मांगे थे। उसने एटीएम से चालीस हजार रुपये भी निकाले थे। जो उसके कमरे से ही मिले। कुछ ग्रामीणों ने बागेश्वर—कपकोट पर एक पुलिसकर्मी को 11 अगस्त को देखा था। इसके बाद वह कहीं दिखाई नहीं पड़ा।

खबरों को अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे
Link

परिजनों के मुताबिक ललित का विवाह तय हो गया था लेकिन लॉक डाउन के कारण विवाह की तारीख आगे सरकार दी गई थी। 22 अगसत को अपने बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट ललित के पिता मोहन सिंह ने पुलिस को दी थी। लेकिन इसके बाद आज तक पुलिस उसकी तलाश नहीं कर सकी है। पुलिस के अनुसार ललित के मोबाइल पर उसकी मंगेतर को फान भी आया था, उसका कहना है कि ललित ने उसे थोड़ा व्यस्त होने की बात कही थी। इसके बाद उसने मां से भी बात की थी। लेकिन तब भी बातचीत में उन्हें सब कुछ सामान्य ही बताया था।
परिजनों ने इससे पहले पुलिस पर लापरपाही का आरोप लगाते हुए 20 नवंबर से धरना शुरू करने की चेतावनी दी थी और आज से उन्होंने जिला मुख्यालय पर धरना शुरू कर दिया।

बागेश्वर : ग्वालदम में तैनात हरियाणा के महेंद्रगढ़ निवासी एसएसबी जवान की मौत

सिंध नदी में मिली सकरमाउथ कैटफिश मांसाहारी मछली, गंगा में देखा गया था इससे पहले, वैज्ञानिकों ने जताया खतरा

Leave a Comment!

error: Content is protected !!