उत्तराखंडऊधमसिंह नगर

सितारगंज : दिल्ली कूच कर रहे किसानों को पुलिस ने रोका, विरोध में भाकियू समेत किसानों ने दिया धरना

नारायण सिंह रावत

सितारगंज। कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में आयोजित हड़ताल में शामिल होने जा रहे किसानों को पुलिस ने रोक दिया। इसके बाद नाराज किसान किच्छा रोड पर धरने पर बैठ गए। किसानों ने केंद्र सरकार पर मनमानी करने का आरोप लगाया। शनिवार को भारतीय किसान यूनियन नेता गुरु साहब सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों किसान दिल्ली कूच कर रहे थे। इससे पहले किसानों ने आगरा वाले गुरुद्वारा में बैठक की। इसी बीच पुलिस को मामले की सूचना मिल गई। सूचना पर सितारगंज इंस्पेक्टर सलाहुद्दीन खान फोर्स के साथ पहुंचे। उन्होंने किसानों को दिल्ली जाने से रोक दिया। इसके विरोध में किसान मौके पर धरने पर बैठ गए। गुरु साहब सिंह का कहना था कि केंद्र सरकार किसानों पर काले कृषि कानून थोप रही है। इसको तत्काल वापस नहीं लिया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। कहा कि सरकार उनको रोककर किसानों की आवाज दबा रही है। कांग्रेसी नेता नवतेज पाल सिंह का कहना था कि केंद्र सरकार किसानों के आंदोलन से घबरा गई है। इसलिए किसी तरह आंदोलन को कमजोर करना चाहती है। लेकिन सरकार का मंसूबा सफल नहीं होगा। इंस्पेक्टर सलाहुद्दीन खान ने बताया कि दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए किसानों को रोक गया है। कहा कि किसान कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए विरोध कर सकते हैं। इस मौके पर पूर्व मंडी चैयरमैन हरपाल सिंह जिला पंचायत सदस्य गुरसेवक महार, करन जंग, साहब सिंह, हरजीत सिंह, रणजीत सिंह (राणा), सरताज अहमद, सुरेंद्र सिंह, वसीम मिया, नसीम मलिक आदि उपस्थित रहे।

सितारगंज ब्रेकिंग : फैक्टरी कर्मी ने फांसी लगाकर दी जान

धरना दे रहे किसानों को हेल्पिंग हैंड्स संस्था की ओर से कोरोना से बचाव के लिए सामग्री बांटी गई। संस्था के अध्य्क्ष शान खान ने बताया कि किसानों को, सैनिटाइजर, साबुन शैम्पू व सरदर्द, गैस, उल्टी की दवाइयां आदि का वितरण किया गया। इस मौके पर उपाध्यक्ष यस अरोरा, हसन खान, सुरेंद्र गुप्ता आदि उपस्थित थे।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!