उत्तराखंडबागेश्वर

बागेश्वर न्यूज : नेता नहीं छोड़ रहे चेहरा दिखाने का मोह, पुलिसकर्मी सांस लेने के लिए मुंह तक लगा रहे मास्क, ऐसे फैल रही जागरूकता

बागेश्वर। कोविड19 के संक्रमण के बचाव को रोकने का बीड़ा उठाने वाले सरकार के प्रतिनिधि व कार्मिक ही महामारी से बचाव के नियमों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। जनप्रतिनिधि महामारी अधिनियम की सरेआम धज्जियां तो उड़ा ही रहे हैं, लेकिन लोगों को मास्क पहनने और सैनेटाइजर का प्रयोग करने की सलाह दे रहे हैं और सलाह न मानने पर उनका चालान तो काट रहे हैं लेकिन स्वयं ही ठीक से मास्क नहीं पहन रहे। कल बागेश्वर के पुलिस मीडिया सेल ने पुलिसकर्मियों के कुछ चित्र जारी किए जिनमें वे मास्क न पहने लोगों में मास्क वितरित कर रहे हैं। लेकिन इन में से अधिकांश चित्रों में पुलिसकर्मियों ने स्वयं ही ठीक से मास्क नहीं पहना है। अधिकांश चित्रों में पुलिसकर्मियों ने अपने मुंह तक तो मास्क पहना है लेकिन नाक पर मास्क नहीं लगाया है।

जनप्रतिनिधियों के चित्रों पर तो यदा कदा सवाल उठ ही रहे हैं लेकिन अपना चेहरा मीडिया में दिखाने का उनका लाल च उन्हें मास्क पहनने से रोक रहा है। जनप्रतिनिधियों के द्वारा खुले आम महामारी अधिनियम की धज्जियां उड़ाई जा रही है । भीड़ लगा कर पुतले दहन हो रहे हैं,मिष्ठान वितरण हो रहा है यहां तक बाइक रैलियां भी हो रही हैं। जिनमें न मास्क पहना जा रहा है और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का कही भी ख्याल रखा जा रहा है।

कल बागेश्वर पुलिस के मीडिया सेल ने पुलिस टीम द्वारा मास्क न पहने लोगों की फोटो जारी की गई, जिसमें अधिकतर पुलिसकर्मी गलत तरीके से मास्क पहने हुए देखे जा सकते हैं। वैसे जनपद पुलिस का यह काम सराहनीय है, लेकिन नियमों का पाठ पढ़ाने वाले स्वयं भी नियम का पालन करते दिखते तो उनकी बात का असर और भी ज्यादा होता। पुलिस द्वारा कोविड-19 के रोकथाम/बचाव हेतु समस्त थाना प्रभारियों द्वारा अपने-अपने थाना क्षेत्रान्तर्गत उक्त जन जागरूकता अभियान के साथ-साथ माह नवम्बर 2020 में बाजार, भीड़-भाड़/सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क का प्रयोग न करने पर कुल- 1383 व्यक्तियों का चालान कर 2,76,600/- रूपये का संयोजन शुल्क वसूला गया तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने पर कुल- 180 व्यक्तियों का चालान कर 3,600/- रूपये का संयोजन शुल्क वसूला गया।वहीं कोविड-19 से बचाव हेतु समस्त थाना प्रभारियों द्वारा अपने-अपने थाना क्षेत्रान्तर्गत माह नवम्बर 2020 में 5,621 व्यक्तियो को फेस मास्क वितरित किये गये।

जो भी हो इस तरीके से तो कोरोना से कतई नहीं लड़ा जा सकता है।एक ओर जिले में मौतों का ग्राफ बढ़ रहा है तो दूसरी ओर खास लोगों द्वारा लापरवाही बरती जा रही है । जनप्रतिनिधि व जिम्मेदार कर्मचारी ही अगर ऐसी लापरवाही बरतेंगे तो आम लोगों से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं ।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!