अल्मोड़ाउत्तराखंड

ALMORA NEWS: कोविड टेस्ट को बेस अस्पताल में उमड़ा युवाओं का हुजूम, घंटों फजीहत, पुलिस को देना पड़ा पहरा, डीएम के आदेश से मिली राहत

सीएनई​ रिपोर्टर, अल्मोड़ा

रानीखेत में चल रही सेना की भर्ती में भाग लेने जा अल्मोड़ा जिले के अभ्यर्थियों को कोविड—19 जांच के लिए भारी फजीहत झेलनी पड़ी। इसके लिए यहां बेस अस्पताल में अभ्यर्थियों का ऐसा हुजूम उमड़ा कि नियंत्रण के लिए पुलिस को पहरा देना पड़ा। पीएमएस डा. एचसी गड़कोटी ने भी भीड़ में जाकर युवाओं से धैर्य व शांति बनाये रखने की अपील की। बाद में डीएम के आदेश के बाद राहत मिली और युवाओं की होड़ थमी।
बेस अस्पताल में आज सुबह से ही सैकड़ों युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। अल्मोड़ा जिले के इन युवाओं आर्मी भर्ती रैली मेंं शामिल होना है। अल्मोड़ा जिले की भर्ती 24 फरवरी से तहसील वार प्रस्तावित है। अभ्यर्थियों से भर्ती में 72 घंटे के अंदर की कोविड—19 की आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट के साथ हाजिर होने को कहा गया है। यह टेस्ट सुविधा यहां बेस अस्पताल में दी गई थी। इस कारण तमाम युवा टेस्ट के लिए बेस अस्पताल पहुंच गए। सुबह 8 बजे बाद देखते ही देखते पंजीकरण व टेस्टिंग कक्षों के समक्ष दो—दो, तीन—तीन लंबी कतारें लग गई। इसके अलावा बारी की होड़ में धक्का—मुक्की होने लगी। हो हल्ला होने लगा। यह देख बेस अस्पताल के पीएमएस डा. एचसी गढ़कोटी और बेस चौकी से पुलिस मौके पर पहुंची और युवाओं का सही तरीके से कतारबद्ध कराया और शांति बनाने के लिए कहा गया। तब जाकर कुछ शांति हुई, हालांकि अपराह्न तक पुलिस मौके पर नजर रखे रही ताकि किसी प्रकार का हुड़दंग नहीं होने पाए।
युवाओं की होड़ और असुविधा को देखते हुए दोपहर जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया का अस्पतालों को आदेश मिला कि संयुक्त मजिस्ट्रेट रानीखेत की आर्मी भर्ती अधिकारी से वार्ता हो चुकी है और युवाओं की थर्मल स्क्रीनिंग की जाए और स्वस्थ पाए जाने पर प्रमाण पत्र जारी किया जाए। साथ ही यह भी कहा कि यदि किसी अभ्यर्थी में कोई लक्षण मिलते हैं, तो उसका कोविड टेस्ट कर नियमानुसार कार्रवाई की जाए। यह सूचना पीएमएस डा. गढ़कोटी ने अभ्यर्थियों को दी। इसके बाद थर्मल स्क्रीनिंग का दौर चला और धीरे—धीरे भीड़ छंटने लगी। युवा थर्मल स्क्रीनिंग कराकर लौटने लगे। बहरहाल कोविड टेस्ट को लेकर दूर—दूर से युवा पहुंचे और यहां उन्हें खुद की भीड़ का सामना करना पड़ा। घंटों धूप में कतारबद्ध रहना पड़ा। जिससे उन्हें फजीहत उठानी पड़ी।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!