BageshwarCNE SpecialEducationPoliticsUttarakhand

बड़ी खबर बागेश्वर से : अध्यापिका प्रिंसिपल के खिलाफ महिला आयोग की शरण में पहुंची

906views

बागेश्वर। मैगड़ीस्टेट के राजकीय इंटर कालेज की एक अध्यापिका ने अपने ही स्कूल की प्रधानाचार्य को उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए स्थानीय अधिकारियों से लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग तक खींच लिया है। अध्ध्यापिका ने राष्ट्रीय महिला आयोग समेत जिलाधिकारी व सीईओ को पत्र भेजकर प्रधानाचार्य की शिकायत की है।
राइंका मैगड़ीस्टेट की सहायक अध्यापिका शुभ्रा तिवारी ने पत्र में
कहा है कि प्रधानाचार्य द्वारा उनका लंबे समय से उत्पीड़न किया जा रहा है। उनसे जबरन सीड़ियां चढ़वाई जा रही हैं। जबकि प्रधानाचार्य जानती हैं कि चिकित्सक ने अध्यापिका को सीड़ियां न चढ़ने की सलाह दी है। आरोप है कि प्रधानाचार्य उन्हें वेतन रोकने, चरित्र आख्या में प्रतिकूल प्रविष्टि आदि की धमकी देते हैं। पत्र में उन्होंने लिखा है कि जिला शिक्षा अधिकारी से सीसीएल मिलने के बाद भी उनका वेतन रोका गया। पत्र में अध्यापिका ने कहा है कि उसने इस
संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी से शिकायत करने के बावजूद उनकी समस्या का कोई समधान नहीं हुआ।

 

अध्यापिका ने पूरे छह पेज के शिकायती पत्र में अध्यापिका ने प्रधानाचार्य द्वारा उसके साथ अब तक किए गए व्यवहार का
उल्लेख करते हुए कार्रवाई की मांग की है। यह भी कहा है कि प्रधानाचार्य द्वारा एक नेपाली व्यक्ति द्वारा कार्यालय खुलवाने व बंद करने का कार्य किया जाता है। इधर शिकायती पत्र में मुख्य शिक्षा अधिकारी हरीश चंद्र सिंह रावत ने प्रधानाचार्य को ही इस संबंध में आदेशित किया है। दूसरी ओर प्रधानाचार्य घनेंद्र कटियार ने बताया कि अध्यापिका के आरोपों में कोई दम नहीं है। जब जहांच होगी तो वे अपने पक्ष में पर्याप्त सबूत देंगे। कहा कि नेपाली को एसएमसी द्वारा रखा गया है।

Leave a Reply