सीएनई रिपोर्टर

मरीजों को देख रहे एक डॉक्टर की अचानक क्लीनिक में घुस आये युवक ने तलवार से उनकी नृशंस हत्या कर दी। हत्या का तरीका इतना विभत्स था कि इसे किसी तालिबानी तरीके से कम नही कहा जा सकता। हत्यारे ने तलवार से ताबड़तोड़ प्रहार कर उनका पहले हाथ काट अलग कर दिया, फिर सिर और गर्दन पर उनकी मौत होने तक एक के बाद एक वार करते रहा। यहां तक की मदद को आये डॉक्टर के पिता पर भी उसने हमला कर उन्हें घायल कर दिया। पुलिस ने हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह घटना उत्तर प्रदेश के सीतापुर के हरगांव थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े हुई है। युवक द्वारा तलवार से किये गये हमले से डॉक्टर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई है। इस घटना के बाद न केवल पूरे राज्य में सनसनी फैल गई है, बल्कि विपक्षी दलों ने भी कानून व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर सवाल पूछने शुरू कर दिये हैं।

घटनाक्रम के अनुसार आज हरगांव थाना क्षेत्र के कस्बा मुद्रासन निवासी डॉ. मुनेंद्र वर्मा पुत्र गजोधर वर्मा अपनी क्लिीनिक पर बैठ मरीजों को देख रहे थे। उन्होंने कमांउडर से पानी मंगाया और जैसे ही वह बाहर गया, एक युवक हाथ में नंगी तलवार लिये डॉक्टर के कैबिन में दाखिल हो गया। उस युवक ने आव देखा न ताव और डॉक्टर पर तलवार से प्रहार शुरू कर दिये। डॉक्टर को बचाने पहुंचे उसके पिता गजोधर पर भी आरोपी ने तलवार से हमला कर उन्हें घायल कर दिया।

👉👉  ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हमला होने के बाद डॉक्टर बाहर भागे, लेकिन हत्यारे ने उनका पीछा नही छोड़ा। युवक ने सबसे पहले तलवार के तीव्र प्रहार से डॉक्टर का हाथ काट कर अलग कर दिया। इसके बाद उन पर ताबड़तोड़ प्रहार तब तक करता रहा जब तक डॉक्टर की मौत नही हो गई।

बताया जा रहा है कि मृतक मुनेंद्र वर्मा आयुर्वेदिक डॉक्टर थे। हरगांव क्षेत्र में वह मरीजों को देखते थे। उन्होंने मकान में ही क्लीनिक चलती हे। शुरूआती जांच में पता चला है कि 2 साल पहले मृतक के पिता गजोधर ने आरोपी अच्छे लाल के पिता से जमीन खरीदी थी। यह वही जमीन है जिस पर क्लीनिक बना हुआ है। पैसों के लेन—देन को लेकर ही यह हत्या हुई है।

इधर पुलिस ने हत्यारे अच्छे लाल नामक युवक को गिरफ्तार कर लिया है। उसका कहना है कि वह बार—बार डॉक्टर से रूपये लेने आता था, लेकिन वह उसे परेशान कर रहे थे। रजिस्ट्री के बाद बाकी रह गये रूपयों को वह कभी 500 तो कभी 1000 रूपया देख उसे टरकाते रहते थे। जिस कारण उसने उनकी हत्या करने का फैसला ले लिया।

इधर डॉ. मुनेंद्र के कम्पाउण्डर शाबान ने बताया कि घटना से पहले डॉक्टर ने उससे पानी मांगा था। वह उन्हें पानी देकर क्लीनिक से बाहर मेडिकल स्टोर पर जाने लगा तो एक दम से डॉक्टर की चीखने की आवाज आई। उसने देखा कि डॉक्टर जान बचाने के लिए भाग रहे हैं और युवक उन पर तलवार से हमला कर रहा है। हत्यारे को रोकने के लिए ईंट पत्थर भी उस पर फेंके गये, लेकिन वह नही रूका। वह छह फीट लंबी तलवार लिए थे और उसके सर पर खून सवार था, यह देख कोई उसके पास जाने की​ हिम्मत नही कर सका।

इधर घटना के बाद सियासत भी शुरू हो गई है। डॉक्टर की नृशंस हत्या पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी सवाल उठाये हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि ”कातिलाना हमले की दुर्दांत घटना से प्रदेश भयभीत है। यही यह घटना भाजपा सरकार में अपराधियों के बेखौफ हौसले को दर्शाता है।” इधर पुलिस का कहना है कि हत्यारा गिरफ्तार कर लिया गया है और मामले की जांच जारी है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here