पिथौरागढ़। पाकिस्तानी सेना के हमले को अपनी छाती पर झेलने वाले कुमाऊं रेजिमेंट को दो वीर शहीदों के शव आज उनके पैतृक गांव पहुंच गए। सेना के विशेष शव यान से उनके शवों को अलग अलग हैलीपैड से उनके घर ले जाया गया। जहां अभी उनके अंतिम दर्शनों की प्रक्रिया चल रही है।

बरेली में सेना के जवान शहीदों के पार्थिव शरीर के सामने सेल्यूट करते हुए


इसके बाद दोनों शहीदों का अंतिम संस्कार उनके गांवों के शमशानघाटों पर किया जाएगा।
आज दोपहर लगभग सवा दो बजे सेना के विशेष विमान से दोनों शहीदों के शवों को पहले बरेली के एयर बेस पहुंचाया गया। यहां से विशेष हेलीकाप्टर के माध्यम से गंगोलोहाट के नाली गांव निवासी शहीद नायक शंकर सिंह मेहरा का पार्थिव शरीर दशाईथल हैलीपैड पर उतारा गया। इसके बाद मुनस्यारी तहसील के नापड़ गांव के रहने वाले शहीद हवलदार गोकर्ण सिंह चुफाल का शव नाचनी में बने हैलीपैड पर उतारा गया।

हेलीपैड से सेना के ही वाहन से दोनों जवानों की पार्थिव देहों को उनके गांव ले जाया गया। उनके गांवों में इस समय शहीदों की पार्थिव दह के अंति दर्शन किए जा रहे हैं। उसके बाद शहीद नायक शंकर सिंह मेहरा का सैनिक सम्मान के साथ रामेश्वर घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। जबकि शहीद हवलदार गोकर्ण सिंह चुफाल का अंतिम संस्कार नाचनी के रामगंगा और भुजगड़ नदी संगम पर किए जाने की तैयारी चल रही है।

पढ़ें इससे पहले की हमारी खबरें…

शहादत को सलाम : सीएम रावत ने दोनों शहीदों को किया नमन

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पिथौरागढ़ जनपद निवासी 21 कुमाऊं रेजीमेन्ट के हवलदार गोकर्ण सिंह और नायक शंकर सिंह की शहादत को नमन किया है। उन्होंने कहा कि एक ओर हमें अपने जवानों की शहादत पर गर्व है वहीं उन्हें खोने का दुख भी है। ईश्वर उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शहीदों के परिजनों को हर संभव मदद की जायेगी।

इससे पहले…

उत्तराखंड ब्रेकिंग : सीमा पर गोलीबारी में कुमाऊं रेजीमेंट के पिथौरागढ़ के थल व गंगोलीहाट निवासी दो जवान शहीद, दो घायल

हल्द्वानी। जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी की चपेट में आकर 2 सैनिक शहीद हो गए हैं। शुक्रवार को पाकिस्तान ने बारामूला जिला के उरी सेक्टर में बिना वजह फायरिंग की थी।
दोनों जवान उत्तराखंड के कुमांऊ मंडल के बताए जा रहे हैं। इनमें से एक गोकर्ण सिंह पिथौरागढ़ के थल के निवासी है जबकि दूसरे शंकर गंगोलीहाट के रहने वाले थे। दो घायल जवान भी उत्तराखंड के ही बताए जा रहे हैं। वे कुमाऊं रेजीमेंट के जवान हैं। भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान की इस हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया, लेकिन पाक फायरिंग में चार सैनिक घायल हो गए थे। इन्हें तुरंत ही पास के मिलिट्री हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, हालांकि शुक्रवार देर शाम इलाज के दौरान दो सैनिकों ने दम तोड़ दिया। इन सैनिकों की पहचान हो गई है, इनमें से एक हवलदार गोकर्ण सिंह हैं जबकि दूसरे नायक शंकर।

अस्पताल में जिन दो सैनिकों का इलाज चल रहा है उनके नाम हैं हवलदार नारायण सिंह और नायक प्रदीप भट्ट। सेना के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि शुक्रवार को दोपहर लगभग 3.30 बजे नियंत्रण रेखा के पास रामपुर सेक्टर में पाकिस्तान ने बिना कारण फायरिंग शुरू कर दी, इस दौरान तीन सैनिक जख्मी हो गए। इससे पहले पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में चार लोग जख्मी हो गए थे। पुलिस का कहना है कि नागरिक इलाकों में पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग से लोग दशहत में आ गए। पाकिस्तान की ओर से हुई फायरिंग में चरुंडा, बटग्रान, हथलंगा, मोथल, सहूरा, सिलिकोट, बालाकोट, नाम्बला और गरकोट जैसे गांव चपेट में आए।

लेटेस्ट ख़बर के लिए जुड़िये हमारें व्हाट्सएप्प ग्रुप से,
https://chat.whatsapp.com/
DgdwsJJqlSTGKfpD5GJ6vb

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here