AlmoraEducationUttarakhand

दो सालों में सात पेटेंट जमा कर विश्वविद्यालय ने स्थापित किए नए कीर्तिमानः प्रो. धामी

553views

आवासीय विवि के कुलपति ने गिनाईं विवि की उपलब्धियां
अल्मोड़ा।
उत्तराखण्ड आवासीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. होशियार सिंह धामी ने कहा कि आवासीय विश्वविद्यालय ने शुरूआत से ही सामाजिक सरोकारों से संबंधित वैज्ञानिक खोजें कर नए कीर्तमान स्थापित किये है। उन्होंने बताया कि इसी का परिणाम है कि विवि ने अपने छोटे से दो सालों के कार्यकाल में अब तक सात पेटेंट जमा कर दिए है। जिसमें से चार पेंटेटों की नोवल्टी प्रदेश सरकार के यूकोस्ट द्वारा प्रदान कर दी है। वहीं, दो पेंटेट राष्ट्रीय स्तर पर फाईल हो चुके है। यह बात पांडेखोला स्थित आवासीय विश्वविद्यालय एवं आरआई इस्युमेंट एण्ड इनोवेशन इंडिया के संयुक्त तत्वाधान में हुये कार्यक्रम में जीएस नैनो टैच इंडिया के एमओयू साईन करते समय आवासीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एचएस धामी ने कही। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा नवाचार के तहत पर्यावरण के लिए अत्यंत हानिकारक पाॅलीथिन तथा जंगली हानिकारक वनस्पतियों को क्लोज्ड लूप रिएक्टर में प्रक्रिया कर ग्राफीन व बायोफ्यूल का निर्माण किया गया है। जिसके अनुप्रयोगों में एल्कोहल सेंसर, सोलर टाईल तथा पुनः प्रभार्य बैटरियों में परिवर्तनीय इलैक्ट्रोडो के पेटेंट आवेदित कर लिए गए है। जिसका उद्देश्य ग्रीन एनर्जी को बढ़ावा देने में होगा। उन्होंने बताया कि क्लोज्ड लूप रिएक्टर में प्रक्रिया कर ग्राफीन व बायोफ्यूल के निर्माण वाली खोज को वाणिज्यिक स्तर पर परिणित करने के लिए जीएस नैनो टेंच इंडिया नाम की कंपनी इस पेंटेट के ट्रायल लाइसेंस को लेने की इच्छा प्रकट की हैं। उन्होंने बताया कि कंपनी के मालिक गोरांग चंद्रा ने आज विश्वविद्यालय परिसर में स्वयं उपस्थित होकर एमओयू पर साईन किया है। उन्होंने बताया कि परीक्षण सफल होने के बाद अगले चार सालों तक कुल उत्पाद का दो फीसदी रायल्टी के रूप में विश्वविद्यालय को प्रदान करेंगे। इस दौरान उनके के साथ आवासीय विश्वविद्यालय के रेजिस्टार विपिन चंद्र जोशी, आरआई इंस्टीटूयड एण्ड इनोवेशन इंडिया के राजेंद्र चंद्र जोशी व ईश्वर चंद्र जोशी सहित अनेक अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे।

Leave a Reply