देहरादून। उत्तराखंड से आज की सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है, जी हां आखिरकार कांग्रेस में हरक सिंह रावत शामिल हो गए हैं। भाजपा सरकार से बर्खास्त हरक सिंह रावत आज अपनी बहू अनुकृति गुसाईं रावत के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

आपको बता दे कि, पिछले 5 दिनों से कांग्रेस ने इंतजार करवाकर आज हरक सिंह की कराई जॉइनिंग करा दी है। तो वहीं हरक की बहू अनुकृति गोसाई भी हरक सिंह के साथ कांग्रेस में शामिल हो गई है। अब माना जा रहा है हरक सिंह रावत की जगह उनकी बहू को टिकट दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि लैंसडाउन से अनुकृति गोसाई को टिकट दिया जाएगा। हरक सिंह रावत को भाजपा से छह साल के लिए निकाला दिया गया था। खबरें वही जो समय पर मिले, तो जुड़िये हमारे WhatsApp Group से Click Now

उत्तराखंड से बड़ी खबर : 3-4 सीटों पर फंसा पेच, बाकी पर बनी सहमति – हरीश रावत


उत्तराखंड : सूची से पहले आ गया हरक सिंह रावत का माफीनामा, कांग्रेसी नेत्री बोली आखिरी पैरा पढ़ लो

हरक की बहू अनुकृति गुसाईं एक मॉडल और टीवी प्रजेंटर हैं। उनका जन्म 25 मार्च 1994 को हुआ। वर्ष 2013 में उन्होंने मिस इंडिया दिल्ली का खिताब जीता था और मिस इंडिया प्रतियोगिता में पांचवें स्थान पर रही थीं।

वर्ष 2013 में वे ब्राइड ऑफ द वर्ल्ड इंडिया का खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। इसके अलावा उन्होंने वर्ष 2014 में मिस इंडिया पैसिफिक वर्ल्ड और वर्ष 2017 में मिस इंडिया ग्रैंड इंटरनेशनल में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। वे महिला उत्थान एवं बाल कल्याण संस्थान की अध्यक्ष भी हैं। News WhatsApp Group Join Click Now

पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत और दीप्ति रावत के बेटे तुषित रावत के साथ वर्ष 2018 में अनुकृति की शादी हुई थी। अनुकृति लैंसडाउन में हरक सिंह रावत का चुनाव प्रचार संभालती रही थीं। उन्होंने कहा था कि वह पहाड़ की बेटी की तरह काम कर सकती है। वह सौ प्रतिशत लैंसडौन से ही चुनाव लड़ेंगी। लैंसडौन की जनता भी चाहती है कि वहां से चुनाव लडूं। लैंसडौन की जनता ने बदलाव का मन बना लिया है।

ज्ञात रहे कि उत्तराखंड के राजनैतिक गलियारों में जहां हरक के पुन: भाजपा में शामिल होने की चर्चा चल रही थी, वहीं आज अचानक कांग्रेस ने यह बड़ा फैसला ले लिया। इससे राजनैतिक विश्लेषक भी हैरान हैं। अलबत्ता यह कहा जा सकता है कि हरक सिंह रावत कांग्रेस में नाराज चल रहे खेमे को किसी तरह मनाने में कामयाब हो ही गये। यदि ऐसा नहीं होता तो उनका पुन: भाजपा में शाामिल होना तय था।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here