उत्तराखंड : वन दारोगा की ऑनलाइन परीक्षा में भी गड़बड़ी, मुकदमा दर्ज
सांकेतिक तस्वीर

देहरादून| उत्तराखंड की ऑनलाइन वन दरोगा भर्ती परीक्षा में भी गड़बड़ी के पुख्ता प्रमाण मिले हैं। नतीजतन एसटीएफ जांच में गड़बड़ी मिलने पर रविवार को मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने ऑनलाइन वन दरोगा भर्ती की जांच कराने के आदेश दिए थे। उत्तराखंड एसटीएफ की जांच में परीक्षा में धांधली की पुष्टि होने पर वन दरोगा ऑनलाइन 2021 परीक्षा में रविवार को केस दर्ज किया गया।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि संलिप्त लोगों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी। कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा। प्रदेश के ईमानदार और परिश्रमी युवाओं के साथ हमारी सरकार अन्याय नहीं होने देगी।




एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि वन दरोगा के 316 पदों पर भर्ती परीक्षा 16- 9-21 से 25-9-21 के बीच 18 शिफ्टों में ऑनलाइन आयोजित हुई थी। इस प्रकरण में अनियमितता और कुछ छात्रों द्वारा अनुचित साधनों के प्रयोग की एसटीएफ/साइबर द्वारा जांच के बाद पुष्टि हुई है।

नतीजतन, साइबर थाना देहरादून पर आज मुकदमा (अपराध संख्या: 22/22 धारा 420/120 B भादवी,66 आई.टी. एक्ट और 3/5/6/9/10) उत्तर प्रदेश सार्वजनिक परीक्षा नकल निवारण अधिनियम की धाराओं में पंजीकृत किया गया है। प्रकरण में प्राथमिक रूप से कुछ छात्रों को चिन्हित भी कर लिया गया है और इसमें सम्मिलित कुछ नकल माफिय को हिरासत में लेकर गहन पूछताछ भी चल रही है।

इस परीक्षा को कराने वाली एजेंसी M/S NSEIT Limited की संलिप्तता होने के साक्ष्य प्राथमिक जांच से प्रकाश में आए है और साथ ही कुछ प्राइवेट इंस्टीट्यूट जहां पर परीक्षायें आयोजित हुई,उनको भी चिन्हित कर लिया गया है। इस ऑनलाइन नकल माफिया गैंग में हरिद्वार देहात, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दिल्ली के लोग प्राथमिक जांच में शामिल पाए जाने के संकेत मिले है।

ऑनलाइन नकल परीक्षा गैंग में प्राइवेट इंस्टीट्यूट नकल के सेंटर बनाये गए थे। ऑनलाइन परीक्षा कराने वाली एजेंसी के कुछ लोग, कक्ष निरीक्षक व परीक्षा से जुड़े कुछ लोग जांच में संदिग्ध पाए गए हैं।

रुद्रपुर : एसएसपी ने किए 7 उपनिरीक्षकों के तबादले, देखें किसे कहा मिली तैनाती

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here