Photo Credit - Internet

नई दिल्ली। जल्द ही आपकी जिंदगी में 5G Network कदम रखने वाला है, जिससे की मोबाइल की दुनिया का अनुभव बदल जायेगा। भारत में अब तक की सबसे बड़ी स्पेक्ट्रम नीलामी (Spectrum Auction) सोमवार को खत्म हो गई है। 7 दिनों तक चली इस नीलामी में 1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के 5जी दूरसंचार स्पेक्ट्रम की रिकॉर्ड बिक्री हुई।

बोली लगाने में जियो (Jio) अव्वल रही

इस नीलामी में जियो ने अपनी अग्रणी स्थिति को मजबूत करने के लिए सबसे अधिक बोली लगाई। मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक कुल 1,50,173 करोड़ रुपये की बोलियां लगाई गईं। अत्यधिक उच्च गति के मोबाइल इंटरनेट संपर्क की पेशकश करने में सक्षम 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी की यह राशि पिछले साल बेचे गए 77,815 करोड़ रुपये के 4जी स्पेक्ट्रम से लगभग दोगुना है। यह राशि 2010 में 3जी नीलामी से मिले 50,968.37 करोड़ रुपये के मुकाबले तीन गुना है। रिलायंस जियो ने 4जी की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक तेज गति से संपर्क की पेशकश करने वाले रेडियो तरंगों के लिए सबसे अधिक बोली लगाई।

न्यूज एजेसी भाषा के मुताबिक, जियो के बाद भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया लिमिटेड का स्थान रहा। बताया जाता है कि अडाणी ग्रुप ने प्राइवेट टेलीकॉम नेटवर्क स्थापित करने के लिए 26 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम खरीदा है। सूत्रों ने कहा कि किस कंपनी ने कितना स्पेक्ट्रम खरीदा, इसका ब्योरा नीलामी के आंकड़ों के पूरी तरह आने के बाद ही पता चलेगा।


10 बैंड में स्पेक्ट्रम की पेशकश

सरकार ने 10 बैंड में स्पेक्ट्रम की पेशकश की थी, लेकिन 600 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज और 2300 मेगाहर्ट्ज बैंड में स्पेक्ट्रम के लिए कोई बोली नहीं मिली। लगभग दो-तिहाई बोलियां 5जी बैंड (3300 मेगाहर्ट्ज और 26 गीगाहर्ट्ज) के लिए थीं, जबकि एक-चौथाई से अधिक मांग 700 मेगाहर्ट्ज बैंड में आई। यह बैंड पिछली दो नीलामियों (2016 और 2021) में बिना बिके रह गया था।

पिछले साल जियो ने 57,122.65 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम लिया था

पिछले साल हुई नीलामी में रिलायंस जियो ने 57,122.65 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम लिया था। भारती एयरटेल ने लगभग 18,699 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी और वोडाफोन आइडिया ने 1,993.40 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम खरीदा था। इस साल कम से कम 4.3 लाख करोड़ रुपये के कुल 72 गीगाहर्ट्ज रेडियो तरंगों को बोली के लिए रखा गया था।

अब आगे क्या?

नीलामी खत्म होने के बाद अब मोबाइल कंपनियों को अपनी बोलियों का पैसा जमा कराना होगा। इसके बाद जिन-जिन एयरवेव्स के लिए कंपनियों को स्पेक्ट्रम मिला है, सरकार उसका वितरण करेगी। इसके बाद कंपनियां सर्विस शुरू करेंगी। मोबाइल कंपनियां इसकी टेस्टिंग पहले से ही कर रही हैं। हालांकि एक साथ पूरे देश में 5जी सर्विस नहीं मिलेगी क्योंकि जहां-जहां टेस्टिंग की गई है, वहां यह सर्विस शुरू हो जाएगी। इस लिस्ट में देश के 13 प्रमुख शहरों के नाम हैं।

इन 13 शहरों में सबसे पहले शुरू होगी 5G सेवा, लिस्ट में जांच लें अपना शहर

Realiance Jio, Airtel, Vodafone Idea ने 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी में स्पेक्ट्रम खरीद लिया है, अब बारी आती है इसकी शुरुआत की। जल्द की 5G Network की सेवा देश के 13 शहरों में सबसे पहले शुरू होगी। नीचे देखें 13 शहरों की लिस्ट :-

➡️ दिल्ली (Delhi)
➡️ बेंगलुरु (Banglore)
➡️ हैदराबाद (Hyderabad)
➡️ चेन्नई (Chennai)
➡️ कोलकाता (Kolkata)
➡️ गांधीनगर (Gandhinagar)
➡️ गुरुग्राम (Gurugram)
➡️ लखनऊ (Lucknow)
➡️ पुणे (Pune)
➡️ अहमदाबाद (Ahmedabad)
➡️ चंडीगढ़ (Chandigarh)
➡️ जामनगर (Jaamnagar)
➡️ मुंबई (Mumbai)

5G Test वाला पहला शहर बना भोपाल

निजी कंपनियां दिल्ली, मुंबई, पुणे और गुरुग्राम जैसे कई शहरों में 5जी की टेस्टिंग कर रही हैं, लेकिन ट्राई (TRAI) ने अपनी पहली टेस्टिंग भोपाल में की है। इस टेस्टिंग से यह पता लगाया जा रहा है कि टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर (TSP) द्वारा यूजर्स को 5G कनेक्टिविटी देने के लिए शहर के इंफ्रास्ट्रक्चर को कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है। भोपाल में ट्रैफिक सिग्नल पोल, स्ट्रीट लाइट पोल, स्मार्ट पोल, डायरेक्शन बोर्ड, होर्डिंग, फुट ओवर ब्रिज और सिटी बस शेल्टर जैसे स्ट्रीट फर्नीचर का इस्तेमाल 5G Network के इंफ्रास्ट्रक्चर के तौर पर किया गया है।

UTET Update : बढ़ाई गई UTET के आवेदन की अंतिम तारीख, जल्द करें आवेदन

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here