हल्द्वानी | नैनीताल दुग्ध उत्पादक सहाकारी संघ । दुग्ध उत्पादकों को सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष से समाप्त होने से पूर्व दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना में 9 करोड़ 71 लाख की धनराशि व दूधारू पशु क्रय हेतु 56 लाख की धनराशि अवमुक्त किये जाने व नेशनल प्रोग्राम डेरी विकास (एनपीडीडी) योजना अंतर्गत 7 करोड़ की धनराशि की स्वीकृत पर नैनीताल दुग्ध संघ अध्यक्ष मुकेश सिह बोरा व प्रबन्ध कमेटी सदस्यो द्वारा मुख्यमंत्री पुष्कर सिह धामी व दुग्ध विकास मंत्री सौरभ बहुगुणा का आभार वयक्त करते हुए नवरात्रा पर गाय का होमोनाइज्ड दूध व बडे पैक में घी विपणन का निर्णय दुग्ध संघ प्रबन्धन द्वारा लिया गया है।

दुग्ध संघ अध्यक्ष मुकेश सिह ने जानकारी देते हुए बताया कि नैनीताल जनपद को विभिन्न योजनाओं में कुल 10 करोड़ 27 लाख की धनराशि प्राप्त हुई है जिससे नैनीताल जनपद के 30 हजार दुग्ध उत्पादक लाभान्वित होगें। दुग्ध उत्पादको को प्रोत्साहित किये जाने के उद्देश्य से दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2022-23 के अवशेष माहो का भुगतान हेतु 9 करोड़ 71 लाख की धनराशि नैनीताल जनपद को प्रदान की गई है व इसके अतिरिक्त दुग्ध उर्पाजन में वृद्धि किये जाने व दुग्ध उत्पादन को स्वरोजगार से जोडने के तहत एनसीडीसी योजना अन्र्तगत 127 दूधारू पशू क्रय हेतु 56 लाख की धनराशि दुग्ध संघ को प्राप्त हो चुकी है जिस योजना में महिलाओं व अनुसूचित वर्ग हेतु 70 प्रतिशत अनुदान व सामान्य वर्ग हेतु 50 प्रतिशत अनुदान का ऋण दिया जा रहा है उक्त ऋण वितरण हेतु दुग्ध समितियों के माध्यम से पहल आओ पहले पाओ की नीति के तहत लाभार्थी चयन की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी गई है जिसमें 2 पशुओ क्रय हेतु 1 लाख 60 हजार व 3 पशुओ क्रय हेतु 2 लाख 40 हजार का अनुदान ऋण का प्राविधान है । उक्त योजनाओं के माध्यम से निष्चित ही जनपद दुग्ध उर्पाजन में बढाने में मदद मिलेगी ।

Advertisement

बोरा ने सरकार द्वारा पूरे प्रदेश को जारी 15 करोड़ 33 लाख बजट के सापेक्ष आधे से अधिक की धनराषि नैनीताल जनपद को उपलब्ध कराये जाने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिह धामी व दुग्ध विकास मंत्री सौरभ बहुगुणा का आभार व्यक्त किया गया। बोरा ने कहा कि इसके अतिरिक्त पशु पोषण योजना अंतर्गत पशूआहार साइलेज व मिनरल मिक्सर की दरो में अनुदान हेतु 2 करोड़ 66 लाख, पर्वतीय क्षेत्र में सचिव प्रोत्साहन योजना में 36 लाख 05 हजार, महिला डेरी योजना में 54 लाख 86 हजार व पशुचारा परिवहन अनुदान में 1 करोड़ 22 लाख वित्तीय वर्ष 2022-23 में कुल 20 करोड़ 08 लाख की भारीभरकम धनराशि नैनीताल दुग्ध संघ को प्राप्त हुई है जिससे निश्चित ही दुग्ध कार्य कलापों को गति मिली है। श्री बोरा ने उत्पादको से क्रय किये जा रहे दूध में किसी भी प्रकार की गडबडी को राकेने व पारदर्शी तरीके से दुग्ध क्रय किये जाने के लिए दुग्ध संघ व ग्राम स्तर पर संचालित दुग्ध समितियों में आंनलाइन मिल्क प्रोक्यरमेन्ट मैन्जमेन्ट साफ्टवेयर तैयार किया गया है प्रथम चरण में 100 दुग्ध समितियों को इस सिस्टम से ट्रायल हेतु आंनलाइन जोडा गया है जिसके बेहतर परिणाम प्राप्त हो रहे है। अध्यक्ष मुकेश बोरा ने बाजार में दुग्ध दरो में वृद्धि पर अवगत कराया कि प्रतिलीटर दुग्ध प्रस्करणं लागत बढने के कारण दुग्ध मूल्य दरो में बढोत्तरी की गई है। दुग्ध प्रोसेसिंग लागत घटाने हेतु एक लाख लीटर प्रतिदिन क्षमता की हाईटेक प्लान्ट मषीनरी का निर्माण कार्य विभागीय निर्णय के बाद शीघ्र ही शुरू कर दिया जायेगा।

इसके साथ ही अध्यक्ष मुकेश बोरा द्वारा बताया गया कि दुग्ध संघ द्वारा उपभोक्ताओं एवं उत्पादकों की व्यापक मांग को देखते हुए प्रथम नवरात्रि से 450 एमएल पैकिंग में 25 रू0 में गाय का होमोनाइज्ड दूध उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराया जायेगा साथ ही शादी समारोह पार्टी की आवष्यकता को देखते हुए 05 व 15 लीटर पैक के मटके में घी बाजार में उतारा जा रहा है। दुग्ध उर्पाजन बढाये जाने व पर्वतीय क्षेत्र में दुग्ध उत्पादन को स्वरोजगार से जोडने के उद्देश्य से एक नया दुग्ध मार्ग संचालित किया गया जिससे प्रतिमाह लगभग चार हजार लीटर दूध उर्पाजित हो रहा है । इस दौरान सामान्य प्रबन्धक निर्भय नारायण सिह, प्रभारी वित्त उमेष पढालनी, प्रभारी पी.एण्ड आई मोहन जोशी, प्रभारी विपणन संजय सिह भाकुनी, प्रभारी एम.आई.एस. पी.एस. खत्री आदि कर्मचारी अधिकारी उपस्थित थे ।

दुग्ध उत्पादको को राज्य सरकार द्वारा पशु पोषण योजना के अन्र्तगत पशु फीड दरों में दिये जा रहे अनुदान का विवरण-

1- साइलेज दर प्रति किग्रा 8 रू0 70ः अनुदान के बाद 2.50 रू0 प्रति किग्रा में किसानो का दिया जा रहा है।
2- मिनरल मिक्सर दर प्रति किग्रा 55 रू0 50ः अनुदान के बाद 27.50 रू0 प्रति किग्रा किसानो का दिया जा रहा है।
3- भूसा दर प्रति किग्रा 16.25 रू0 50ः अनुदान के बाद 8.12 रू0 प्रति किग्रा किसानो का दिया जा रहा है।
4- पशुआहार दर प्रति किग्रा 19.30 रू0 अनुदान पर्वतीय क्षेत्र में 6 रू0 व मैदानी क्षेत्र में 4 रू0 प्रति किग्रा में किसानो का दिया जा रहा है।
5- भारत सरकार की योजना नेशनल प्रोग्राम डेरी विकास (एनपीडीडी) योजना में फार्मर ट्रेनिंग व डीपीएमसीयू आदि हेतु 6 करोड़ की धनराशि स्वीकृत।
6- नेशनल प्रोग्राम डेरी विकास (एनपीडीडी) योजना में लैब इक्योमेन्ट हेतु 81 लाख धनराशि जनपद नैनीताल हेतु स्वीकृत की गई है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here