Wednesday, September 28, 2022
यह भी पढ़ें -  हल्द्वानी में घूमने की जगह | Top 10 Places Visit In Haldwani
Home साहित्य

साहित्य

कविता — वह सुबह जरूर आएगी

0
मई दिवस/अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस पर कवि एडवोकेट कवीन्द्र पन्त, अल्मोड़ा की कविता — आज नहीं तो कल वह सुबह जरूर आएगीजब धूप तेरे हिस्से की तेरे आंगन पर मुस्कुराएगीमुसकुराती आंखों में चमक तेरे हौसलों की...

देवेंद्र कुमार मिश्रा का व्यंग्य आलेख : तुलसीदास हाजिर हो !

0
‘‘तुलसीदास अदालत में हाजिर हो। गीता पर हाथ रखकर शपथ लो, जो कुछ कहोगे सच कहोगे। मिस्टर तुलसीदास आप पर आरोप है कि आपने दलित समुदाय का अपमान किया है।’’ ‘‘श्रीमान जी ये दलित क्या...

कवीन्द्र पन्त (एडवोकेट) की कविता — ‘महल’

0
सुना है,कभी यहांमहल खड़े रहते थे।दुर्भेध्य,जिनकी चाहरदीवारी के भीतरपग वैरी न आने पाते थे।सुंदर सुंदर अप्सराएंलब्ध प्रतिष्ठित नृत्यांगनाएंउनकी सेवा में तत्परप्रति पल, प्रति क्षणरहतीं थीं।थे सज्जित स्वप्नों से,जो महल कभी,हैं अशेष नहीं उनकेअब,यहां खण्डहर...

लघु कथा : ‘आदमी’ — एक बड़ी सीख !

0
प्रो. रमेश तिवारी ‘विराम’, मकरन्दनगर, कन्नौज जेठ की तपती दोपहर। भयानक लू चल रही थी। बाजार सुनसान था। बाजार के बीचों-बीच कपड़े की बड़ी दुकान पर सेठ मंगतूराम गद्दी पर बैठे उंघ रहे थे। भरी...

एक सत्य कथा — अवांछित

0
यह आधुनिक भौतिकवादी युग की कड़वी सच्चाई है कि माता—पिता जब तक काम के रहते हैं बेटे—बहू उनकी पूछ करते हैं, लेकिन यदि वह बूढ़े, अशक्त, लाचार व अपने बच्चों पर आश्रित हो जायें...

जानिए, अल्मोड़ा में क्यों पूजे जाते हैं खमसी बूबू ! 150 साल से भी...

0
सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा कुमाऊं के विभिन्न ग्रामीण और शहरी अंचलों में आत्माओं को देव स्वरूप मानकर पूजा जाता है। लोगों का आत्माओं के अस्तित्व में दृढ़ विश्वास उन्हें कुछ शक्तिशाली आत्माओं को पूजने के लिए...

नवसंवत्सर पर विशेष — रत्नों की विलक्षण दुनिया और ग्रहों से रत्नों का जोड़

0
''नैसर्गिक गर्भ और रत्न'' शरीर ज्ञान-परिज्ञान से अनभिज्ञ, आदि नग्न मानव निरुद्देश्य घूमता था। पत्थर उठाया, मारा, शिकार करके पेट की ज्वाला शांत कर ली। आज के छत्तीस प्रकार के भोज्य पदार्थ और छत्तीस प्रकार...

आइये अल्मोड़ा : अपार श्रद्धा व पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है यह प्राचीन...

0
शहरफाटक का विष्णु मंदिर दर्शन सिंह फर्तयाल ‘रंगधरी’, शहरफाटक देश में सूर्य व विष्णु मंदिरों की बहुत सीमिति संख्या है। विगत दिनों हमने आपको अल्मोड़ा के कटारमल से अतिरिक्त गुणादित्य के सूर्य मंदिर के बारे में...

व्यंग्य लघुकथा — ‘वास्तविकता’ : अनुभवहीन पुलिस के खोजी कुत्ते

0
आचार्य भगवान देव ‘चैतन्य’, हिमाचल प्रदेश गांव में चोरी और हत्या जैसी वारदातें जब बहुत बढ़ गई तो पुलिस ने खोजी कुत्तों का सहारा लिया, लेकिन कुछ ही समय में इन कुत्तों को वापस भेज...

यह भी जानिये : अल्मोड़ा में सिर्फ कटारमल में ही नहीं, यहां भी है...

0
कीजिए दर्शन गुणादित्य के ऐतिहासिक सूर्य मंदिर के प्राय: जब ऐतिहासिक सूर्य मंदिरों पर चर्चा होती है तो सबसे पहले कोणार्क के सूर्य मंदिर और दूसरे नंबर पर उत्तराखंड के अल्मोड़ा में स्थित सुप्रसिद्ध कटारमल...
error: Content is protected !!