मुनस्यारी : जीना विश्वविद्यालय के कुलपति ने किया राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी का निरीक्षण, जल्द ही मिलेगा पीजी कॉलेज का दर्जा

3

📰 खबरों के लिए जुड़े व्हाट्सप्प ग्रुप से 👉 Click Now 👈

मुनस्यारी। सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा के कुलपति प्रो. एनएस भण्डारी ने स्व. डॉ. रघुनंदन सिंह टोलिया राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी का निरीक्षण किया। वर्ष 2001 में राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी की स्थापना के बीस वर्षों बाद यह पहला अवसर था जब किसी कुलपति ने महाविद्यालय का निरीक्षण किया। महाविद्यालय में कुलपति के प्रथम आगमन पर महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. डीसी पंत ने उनका स्वागत किया।

कुलपति प्रो. एनएस भण्डारी ने प्राचार्य डॉ. डीसी पंत से महाविद्यालय में उपलब्ध भौतिक एवं वित्तीय संसाधनों तथा महाविद्यालय में उपलब्ध कक्षों, फर्नीचर तथा पेयजल एवं विद्युत उपलब्धता के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। कुलपति ने महाविद्यालय में वर्तमान में चल रही परीक्षाओं का निरीक्षण किया तथा परीक्षा की व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया। कुलपति प्रो. एनएस भण्डारी के महाविद्यालय में आगमन पर छात्र संघ पदाधिकारियों तथा छात्र-छात्राओं ने भी कुलपति का स्वागत किया तथा उन्हें महाविद्यालय की समस्याओं से अवगत कराया। निवर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष कमला चुलकोटिया तथा अन्य छात्र संघ पदाधिकारियों ने कुलपति से महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर जूलॉजी, बॉटनी, फिजिक्स, कैमिस्ट्री तथा गणित विषयों के साथ नवीन शिक्षण सत्र से बी. एस. सी. प्रारम्भ करने की मांग की। उन्होंने स्नातक स्तर पर कला संकाय के अंतर्गत संस्कृत, गणित, गृह विज्ञान, संगीत, परफॉर्मिंग आर्ट, मनोविज्ञान तथा शारीरिक शिक्षा विषय प्रारम्भ करने की मांग की।

प्राचार्य द्वारा अवगत कराया गया कि राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी द्वारा स्नातक स्तर पर कला संकाय के अंतर्गत नवीन विषयों को प्रारम्भ करने तथा बीएससी एवं बीकॉम प्रारम्भ करने संबंधी प्रस्ताव शासन को पूर्व में ही प्रेषित किया जा चुका है। शासन स्तर पर उक्त प्रस्तावों पर कार्यवाही की जा रही है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि शीघ्र ही राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी को पीजी कॉलेज का दर्जा प्रदान कर दिया जायेगा, जिससे महाविद्यालय में मिलने वाली सुविधाओं में और अधिक बढ़ोतरी हो सकेगी। प्राचार्य डॉ. डीसी पन्त ने आगामी अप्रैल द्वितीय सप्ताह में एक दिवसीय नमामि गंगे कार्यक्रम के लिए भी कुलपति से महाविद्यालय में आने के लिये आमंत्रित व आग्रह भी किया।

इस अवसर पर कुलपति प्रो. एनएस भंडारी ने बताया कि सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय का प्रयास है कि अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, बागेश्वर एवं चम्पावत जनपदों के दूरस्थ एवं सीमान्त क्षेत्रों में अवस्थित महाविद्यालयों में उच्च शिक्षा को और अधिक बेहतर बनाने के लिए लगातार प्रयास किये जाये। इसी सोच तथा विज़न के साथ विश्वविद्यालय द्वारा अन्तरमहाविद्यालयीय क्रॉस कन्ट्री स्पर्द्धा मुनस्यारी में आयोजित की गई। उन्होंने विश्वास दिलाया कि भविष्य में भी विश्वविद्यालय द्वारा कई अन्य अन्तरमहाविद्यालय स्पर्धाएं भी मुनस्यारी में आयोजित की जायेंगी। उन्होंने कहा कि यहां इस अन्तरमहाविद्यालय स्पर्धा के आयोजन से अन्य विद्यार्थी भी खेलों के प्रति प्रेरित होंगे तथा उन्हें और अधिक एक्सपोज़र मिलेगा। उन्होंने बताया कि मुनस्यारी क्षेत्र में खेल, प्रशासन एवं कई अन्य सेवाओं में अनेक राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी प्रदान किये हैं जो आज अपनी योग्यता से सभी को प्रभावित कर रहे हैं।

उनका कहना था कि विश्वविद्यालय सीमांत एवं दूरस्थ क्षेत्रों में नवीन पाठ्यक्रम प्रारम्भ करने की दिशा में तेजी के साथ कार्य कर रहा है तथा शीघ्र ही राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी में भी कई नवीन एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रम भी प्रारंभ किये जायेंगे। इस अवसर पर कुलपति प्रो. एनएस. भण्डारी ने प्राध्यापकों, कर्मचारियों व छात्र-छात्राओं से वार्ता की तथा महाविद्यालय में शिक्षण व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिये कई महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये।

इस अवसर पर डॉ. रवि जोशी, डॉ. अमित कुमार जोशी, प्रदीप मंडल, राहुल पांडेय, दुर्गेश कुमार शुक्ला, चंद्र प्रकाश, डॉ. वंशीधर उपाध्याय, हेमंती बथयाल, मंजू महरा, चेतन जोशी, कैलाश सिंह, धर्मेंद्र सिंह, जमन सिंह, त्रिलोक राम, लक्ष्मी देवी, हेमा पंचपाल भी उपस्थित थे।

Previous articleकोरोना अपडेट : देश में एक दिन में 62 हजार से अधिक नए मामले
Next articleहल्द्वानी : भगत ने किया छडायल चौराहे से आरटीओ रोड सम्पर्क मार्ग का लोकार्पण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here