कोविड-19ब्रेकिंग न्यूजसी एन ई विशेषस्वास्थ्य

वाह ! मां के दूध की ताकत के सामने टिक नहीं पा रहा कोरोना वायरस

नई दिल्ली। मां के दूध की ताकत के वाला मुहावरा तो आपने सुना ही होगा लेकिन अब चीन के रिसर्चर्स को एक स्टडी में पता चला है कि मां का दूध के आगे कोरोना भी नहीं टिक पा रहा है। यह दूध ज्यादातर कोरोना वायरस को खत्म कर देता है। इससे पहले कुछ स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि ब्रेस्टफीडिंग से कोरोना फैल सकता है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि कोरोना पॉजिटिव होने वाली मां को बच्चों को दूध पिलाना जारी रखना चाहिए। एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीजिंग के रिसर्चर्स ने स्टडी के दौरान ह्यूमन सेल्स और जानवरों के सेल्स पर मां के दूध का परीक्षण किया।

हिमाचल की खबरें मोबाइल पर पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://chat.whatsapp.com/FdXfaGaJxHuIJXXUxifzRb

विभिन्न प्रकार के सेल्स पर परीक्षण के बाद पता चला कि मां के दूध की वजह से ज्यादातर वायरस मर जाते हैं।


बीजिंग यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर टोन्ग यीगैंग ने कहा है कि मां का दूध वायरल अटैचमेंट को ब्लॉक कर देता है। रिसर्चर्स की टीम ने biorxiv.org पर शुक्रवार को यह स्टडी प्रकाशित कर दी है जिसका अब तक रिव्यू नहीं किया गया है।
इससे पहले जून में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विभिन्न देशों की 46 ऐसी महिलाओं पर स्टडी की थी जो अपने बच्चों को दूध पिला रही थीं।

आपको हमारी खबरें नहीं मिल रही हैं तो इस लिंक पर क्लिक करें

https://chat.whatsapp.com/LVaUUTpBUk2KPGJ6rn1DkI

स्टडी के दौरान पता चला कि तीन मां के दूध में वायरल जीन मौजूद हैं, लेकिन इससे संक्रमण के सबूत नहीं मिले। सिर्फ एक बच्चा कोरोना से संक्रमित हुआ था। वहीं, चीनी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, फरवरी में वुहान में कोरोना पॉजिटिव होने वाली कई महिलाओं को बच्चों से दूर कर दिया गया था और नवजात को मां का दूध नहीं दिया गया। इससे पहले अमेरिका की प्रमुख स्वास्थ्य संस्था सीडीसी ने भी चेतावनी दी थी कि कोरोना पॉजिटिव मां अगर बच्चों को दूध पिलाती हैं तो उससे भी संक्रमण का खतरा हो सकता है।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!