— सभी व्यवस्थाएं व सुविधाएं परखीं और दिए कई दिशा—निर्देश

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: जिलाधिकारी वंदना ने अस्पतालों का हाल जानने जिला अस्पताल व महिला अस्पताल के औचक निरीक्षण पर गईं। उन्होंने सभी व्यवस्थाओं व मरीजों को मिल रही सुविधाओं का बारीकी से जायजा लिया और जानकारी प्राप्त की। मरीजों से भी बात की। इसके साथ ही कई दिशा—निर्देश दिए।

Advertisement

जिलाधिकारी वन्दना शुक्रवार सांय जिला चिकित्सालय व महिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण करने पहुंच गई। इस दौरान उन्होंने चिकित्सालय में मरीजों को दी जा रही सुविधाओं की विस्तृत जानकारी प्राप्त की। जिला अस्पताल में निरीक्षण के दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि ब्लड बैंक पर डयूटी करने वाले कर्मचारियों के नाम, मोबाईल नम्बर स्पष्ट व बड़े शब्दों में बोर्ड में चस्पा किए जाएं। उन्होंने बार—बार निर्देश के बाद भी परिसर में पड़े निष्प्रोज्य सामान की नीलामी नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की और मुख्य चिकित्साधिकारी को कड़े निर्देश दिये कि एक सप्ताह के भीतर निष्प्रोज्य सामान की नीलामी करना सुनिश्चित किया जाय। जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिये कि अल्ट्रासाउण्ड कक्ष के बाहर गर्भवती महिलाओं के बैठने की पर्याप्त व्यवस्था की जाय ताकि गर्भवती महिलाओं को किसी प्रकार की असुविधा न हो।

जिलाधिकारी ने अस्पतालों के सभी कक्षों का निरीक्षण किया। उन्होंने बैंच, स्टूल आदि में रंगरोगन करने के निर्देश दिये। इस दौरान उन्होंने चिकित्सालय की कैन्टीन का निरीक्षण किया और वहां पर मरीजों के लिये बन रहे भोजन की जानकारी ली। उन्होंने प्रत्येक दिन मरीजों को मिलने वाले भोजन की जानकारी मैन्यू चार्ट में लिखने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने जिला चिकित्सालय में भर्ती मरीजों से बात की और उन्हें मिल रही सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की। साथ ही निर्देश दिये कि मरीजों को ठण्ड से बचाने के लिये हीटर/ब्लॉवर की व्यवस्था की जाय।

इसके बाद जिलाधिकारी महिला चिकित्सालय पहुंची, जहां बारीकी से निरीक्षण किया। उन्होंने प्रवेश द्वार पर पानी लिकेज को जल संस्थान से तत्काल ठीक कराने के निर्देश दिये। उन्होंने जनरल वार्ड, प्रसव कक्ष का भी निरीक्षण किया। उन्होंने भर्ती मरीजों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। डीएम ने पीएमएस को निर्देश दिये कि चिकित्सालय में जन्मे नवजात शिशुओं की अच्छी देखभाल संबंधी जानकारी नवजात के परिजनों को अनिवार्य रूप से दी जाय। उन्होंने निर्देश दिये कि अनावश्यक रूप से गर्भवती महिलाओं को रैफर न किया जाय। उन्होंने साफ कहा कि सफाई व्यवस्था में किसी प्रकार का समझौता नहीं होगा। निरीक्षण में उनके साथ मुख्य चिकित्साधिकारी डा. आरसी पंत, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. प्रीति पंत सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

महिला को प्लॉट दिखाने के बहाने बना डाला हवस का शिकार, गिरफ्तार

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here