उत्तराखंडनैनीताल

हल्द्वानी न्यूज : सर्दी की आहट देखते हुए अलाव, रैन बसेरे और कंबल वितरण के लिए डीएम ने जारी किए पांच लाख

सांकेतिक फोटो

हल्द्वानी। जनपद में गुलाबी सर्दी का अहसास होने लगा है। दिन प्रतिदिन तापमान में गिरावट भी दर्ज होने लगी है। आने वाले समय मेें शीतलहर, पाला व ठिठुरन भरी सर्दी भी होगी, ऐसे में निराश्रितों को सम्भावित शीतलहरी व सर्दी के प्रकोप से बचाने के लिए जिला प्रशासन क्रियाशील हो गया है। जिलाधिकारी सविन बंसल ने सभी उपजिलाधिकारियों, नगर आयुक्त नगर निगम, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को निर्देश दिये हैं कि वह सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जनपद के पर्वतीय क्षेत्रों के साथ ही पर्यटन नगरी में अलाव जलाने का कार्य तत्काल प्रारम्भ कर दिया जाए, क्योंकि पहाडी इलाकों में तापमान काफी कम हो गया है। ऐसे मे इन इलाकों में तत्काल अलाव की व्यवस्था की जाए। उन्होंने उपजिलाधिकारियों एवं स्थानीय निकाय के अधिकारियों को निशुल्क कंबल वितरण के साथ ही रैनबसरों की व्यवस्थायें भी समय रहते पूरी करने के निर्देश दिये हैं।

बंसल द्वारा जनपद के स्थानीय निकायों मे कबंल, अलाव तथा रैनबसरे की व्यवस्थाओ के लिए 5 लाख की धनराशि भी अवमुक्त कर दी है। उन्होने निर्देश दिये हैं कि आवंटित की जा रही धनराशि से सम्बन्धित अधिकारी निराश्रतो को सम्भावित शीतलहरी के प्रकोप से बचाने हेतु आवश्यकता के अनुरूप पर्याप्त संख्या मे अलाव की व्यवस्था सुनिश्चित करें। अलाव जलाने का चयन ऐसे स्थानों पर किया जाए जहां अधिक से अधिक निर्धन एंव असहाय लोग,जहां जनता खुले आसमान के नीचे निवास करती हो या एकत्र होती हो यथा धर्मशालायें,रैनबसेरा, मुसाफिर खाना, पडाव, सराय, चौराहे, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन तथा अन्य सार्वजनिक स्थान। उन्होेंने कहा कि इसके साथ ही निशुल्क कंबल बांटने की व्यवस्था की जाए। इस हेतु नियमानुसार तत्काल कंबल क्रय कर लिये जाएं। बंसल ने कहा कि शीतलहर के दौरान कंबल वितरण एवं अलाव व्यवस्था में कोविड 19 की रोकथाम एवं बचाव हेतु भारत सरकार, राज्य सरकार तथा जिला प्रशासन द्वारा निर्गत आदेशों तथा निर्देशों का पूर्णतयाः अनुपालन सुनिश्चित किया जाए।
जिलाधिकारी द्वारा नैनीताल के लिए 80 हजार, हल्द्वानी के लिए 90 हजार, रामनगर तथा धारी के लिए 65-65 हजार,लालकुआं,कालाढूगी, कोश्याकुटौली एवं बेतालघाट के लिए 50-50 हजार की धनराशि अवमुक्त कर दी है।

दुखद: नहीं रहे एमडीएच के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी

Leave a Comment!

error: Content is protected !!