नई दिल्ली। पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के बीच कोरोना की बेलगाम रफ्तार को देखते हुए चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। चुनाव आयोग ने रोड शो और रैली जैसी सियासी गतिविधियों पर पाबंदी बढ़ा दी है। चुनाव आयोग ने 22 जनवरी तक पाबंदी बढ़ाई है। इससे पहले 15 जनवरी तक रोक थी।

चुनाव आयोग 22 जनवरी को फिर स्थिति की समीक्षा करेगा, तब तक राजनीतिक दलों डिजिटल प्रचार करना होगा। चुनाव आयोग ने कहा कि इनडोर सभागार में हॉल की क्षमता से आधे लोगों की सभा की जा सकती है, लेकिन अधिकतम 300 लोग ही वहां मौजूद रह सकते हैं। News WhatsApp Group Join Click Now

राजनीतिक दलों को आगाह किया गया है कि वो कोविड गाइडलाइन का पालन करें। राज्य और जिला निर्वाचन अधिकारियों को सख्त ताकीद की गई है कि कोविड प्रोटोकॉल के मद्देनजर सभी राजनीतिक दलों के नेताओं, कार्यकर्ताओं और जनता की गतिविधियों पर पैनी निगाह रखें। वहीं, ऑब्जर्वर्स से कहा गया है कि वो मुस्तैद रहें और जनता की नजरों में रहें, ताकि जनता को पता रहे कि उन पर निगाह है।


उत्तराखंड की पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य यूपी की इस सीट से लड़ेंगी चुनाव

इससे पहले चुनाव आयोग ने बताया था कि कोविड को देखते हुए सैनेटाइजर, थर्मल स्कैनर का पोलिंग बूथ पर प्रयोग होगा। सभी वोटिंग हॉल ग्राउंड फ्लोर पर होंगे। वहीं, कोविड प्रभावित या कोविड संदिग्ध के घर वीडियो टीम के साथ आयोग की टीम विशेष वैन से जाएगी और वोट डलवा कर आएगी। इन्हें बैलेट पेपर से वोट डालने का अधिकार मिलेगा। 80 वर्ष से अधिक वालों के लिए पोस्‍टल बैलेट का उपयोग किया जाएगा।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में वोटिंग होगी, जबकि मणिपुर में दो चरण में वोट डाले जाएंगे। इसके अलावा पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में एक चरण में 14 फरवरी को होगा चुनाव। वहीं 10 मार्च को इन पांचों राज्यों के चुनावी नतीजे आएंगे।

Uttarakhand : आचार संहिता का उल्लंघन, कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत सहित 11 लोगों पर मुकदमा दर्ज

उत्तराखंड भर्ती : UKSSSC ने निकाली समूह ‘ग’ के अंतर्गत भर्ती, पढ़े पूरी अपडेट

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here