हल्द्वानी। जिलाधिकारी सविन बंसल ने चिकित्साधिकारी व अधिगृहित निजी चिकित्सालयों में तैनात नोडल अधिकारियों की बैठक लेते हुये इमरजेंसी केस ही अधिग्रहित प्राइवेट चिकित्सालयों में रैफर करने के निर्देश दिये। उन्होंने चिकित्सालयों के पीएमएस, सीएमएस को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने चिकित्सालयों में ओपीडी, आईपीडी, सर्जरी प्रारम्भ करने के निर्देश भी दिये।

जिलाधिकारी बंसल ने निर्देश देते हुए कहा कि अधिगृहित प्राइवेट चिकित्सालयों में मरीजों को उचित उपचार मिले इस हेतु तैनात नोडल अधिकारी निजी चिकित्सालयों के प्रबन्धकों व चिकित्सकों से नियमित समन्वय स्थापित करते हुए वार्ता करें साथ ही मरीजों व उनके तीमारदारों से भी वार्ता करते हुए उपचार की गुणवत्ता की जानकारियां लें, यदि कोई समस्या आती है तो उसका त्वरित समाधान कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिये कि रैफर मरीजों का पूर्ण डाटा का अंकन करना भी सुनिश्चित किया जाए।

अपर निदेशक/समन्वयक डा. विनीता साह ने बताया कि अब तक गठित रैफर समिति द्वारा सात गम्भीर बीमार मरीजों निजी अधिगृहित चिकित्सालयों में उपचार हेतु रैफर किया गया था, जो अब ठीक होकर डिस्चार्ज भी किये जा चुके है। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी डा. भारती राणा, एसीएमओ डा. रश्मि पंत, डा. टीके टम्टा, डा एमएस गुंज्याल, डा. मीरा गुंज्याल, डा. डीएस पंचपाल, नोडल अधिकारी रमा गोस्वामी, संगीता आर्य, अनुलेखा बिष्ट, डी कुमार, विनीत कुरील, एनएस दरम्वाल, तरूण बंसल आदि मौजूद थे।


Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here