अल्मोड़ाउत्तराखंडजन समस्याराजनीति

असंवेदनशील कदम, दोहरा सितम : रोडवेज बसों में किराया वृद्धि और पेट्रोल—डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी ने तोड़ दी जनता की कमर : मनोज तिवारी

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा के पूर्व विधायक मनोज तिवारी ने प्रदेश सरकार द्वारा रोडवेज की बसों का किराया सीधे दुगुना कर दिए जाने पर रोष व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि आज जहां एक ओर पूरे प्रदेश की जनता लाक डॉऊन के कारण आर्थिक रूप से बेहद कमजोर हो चुकी है एवं गरीब व मध्यम वर्ग की आर्थिक स्थिति बुरी तरह से खराब है। ऐसे में रोडवेज की बसो़ं का किराया दुगुना हो जाने से आम जनता की कमर ही टूट जाएगी। उन्होंने कहा कि रोडवेज की बसों का उपयोग अधिकतम गरीब एवे मध्यम वर्ग ही करता है, जिस कारण इस वर्ग पर प्रदेश सरकार की यह दोहरी मार है। सरकार को रोडवेज की बसों के किराये को तय करते समय संवेदनशीलता दिखानी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह के घाटे को पूरा करने के लिए जनता पर आर्थिक भार डालना दुर्भाग्यपूर्ण है। श्री तिवारी ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि प्रदेश सरकार अपने इस किराया बढ़ोत्तरी के आदेश को अविलम्ब वापस ले, जिससे कि जनता को राहत मिल सके। श्री तिवारी ने कहा कि विगत 13 दिनों से लगातार पेट्रोल-डीजल के मूल्यों में बढ़ोत्तरी हो रही है। जिस कारण पेट्रोल-डीजल का मूल्य वर्तमान में अपनी सारी सीमाएं लांघ गया है।पहले से आर्थिक रूप से अक्षम पड़ी देश की जनता पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ रहे दामों से हैरान-परेशान है। उन्होंने कहा कि डीजल का मूल्य बढ़ने से दैनिक उपभोग की प्रत्येक वस्तु महंगी होगी जिसका विपरीत आर्थिक असर सीधे जनता पर पड़ेगा। श्री तिवारी ने कहा कि जहां आज इस महामारी के कठिन दौर में केन्द्र सरकार को पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों को कम कर स्थिर करना चाहिए वहीं हर रोज पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़ाकर जनता को परेशान करने का काम केन्द्र सरकार द्वारा किया जा रहा है। श्री तिवारी ने स्पष्ट रूप से कहा कि केन्द्र सरकार को जनहित में अब बिना समय गवाए पेट्रोल-डीजल के दाम कम कर उन्हें स्थिर करना चाहिए।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!