किच्छा। गन्ना सोसायटी कार्यालय के अधिकारियों पर गन्ना तोल पर्ची ना दिए जाने का आरोप लगाते हुए एक किसान ने अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आत्मदाह करने का प्रयास किया, इसी बीच मौके पर मौजूद अन्य किसानों ने बीच-बचाव कर पीड़ित किसान को बचा लिया। इधर गन्ना सोसायटी सचिव ने आरोपी किसान पर कार्यालय में घुसकर कर्मचारियों के साथ अभद्रता करते हुए मारपीट किए जाने के प्रयास का आरोप लगाया है। समाचार भेजे जाने तक सोसायटी सचिव द्वारा कोतवाली पुलिस को लिखित शिकायत दर्ज कराने की तैयारी की जा रही थी। जानकारी के अनुसार निकटवर्ती ग्राम बरी निवासी रिजवान अहमद पुत्र मरगूब अहमद गन्ना सोसायटी पहुंचे और सोसाइटी परिसर में अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आत्मदाह करने का प्रयास किया । मौके पर मौजूद किसानों ने उन्हें आत्महत्या करने से रोक दिया और उनके पेट्रोल लगे कपड़ों को उतरवा दिया। किसान रिजवान ने सोसायटी के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि सोसाइटी में अव्यवस्थाओं के चलते उन्हें गन्ने की पर्ची नहीं मिल रही है जिस कारण
उनका कटा हुआ गन्ना खेतों में सूख रहा है । उन्होंने कहा कि उनकी कई एकड़ गन्ने की फसल खेतों में सूख रही है परंतु सोसायटी द्वारा एक माह से गन्ने की पर्ची जारी न करने के चलते उनका लाखों का गन्ना बर्बाद हो रहा है। उन्होंने सोसाइटी प्रबंधन पर गन्ना माफिया को संरक्षण देने का आरोप लगाया । इधर सोसायटी सचिव एच सी नमानी ने आरोपी किसान रिजवान के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि किसान रिजवान को 1 माह के अंतराल में 6 गन्ना पर्ची जारी की जा चुकी है बावजूद इसके आरोपी किसान द्वारा उन पर दबाव बनाकर अतिरिक्त पर्चियां जारी कराने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने किसान रिजवान पर उनके निवास तथा कार्यालय पर आकर अभद्रता करने तथा सोसाइटी कर्मचारियों के साथ धक्का-मुक्की करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह आरोपी किसान के खिलाफ कोतवाली में सूचना दर्ज करा कर कार्यवाही कराने की तैयारी कर रहे हैं।



Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here