— चेकिंग में नि​कली अलग—अलग टीमें, व्यापारियों में रहा हड़कंप

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: यहां उत्तरायणी मेले में खाद्य सामग्री बेच रहे दुकानदारों में आज फिर हड़कंप मचा। दूसरी ओर पालीथिन के प्रयोग को लेकर बाजार में छापेमारी हुई। जिलाधिकारी अनुराधा पाल के निर्देश पर टीमें चेकिंग पर उतरी। खाद्य सुरक्षा महकमे की टीम ने चेकिंग करते हुए सैंपलिंग शुरू कर दी। इस दौरान टीम ने करीब 40 लीटर कलर पानी का घोल नाले में फेंका गया और दुकानदारों को खाद्य सामग्री ढककर रखने की सख्त हिदायत दी गई। उधर पालीथिन के खिलाफ चले अभियान के दौरान आधा दर्जन व्यापारियों के खिलाफ चालानी कार्यवाही हुई और 1100 रुपये का अर्थदंड भरवाया।

Advertisement

जिला अभिहीत अधिकारी डॉ. प्रकाश फुलारा व खाद्य सुरक्षा अधिकारी विपिन कुमार के साथ टीम सोमवार को मेलास्थल पहुंची। टीम ने मेले में लगी जूस, मिठाई, पके भोजन, नमकीन व आइसक्रीम इत्यादि खाद्य सामग्री की दुकानों का निरीक्षण किया। इस दौरान आइसक्रीम में उपयोग होने वाले बटर स्कॉच प्रिमिक्स के घोल तथा गुलाब जामुन का नमूना भरा। इन नमूनों को जांच के लिए रुद्रपुर प्रयोगशला भेजा। टीम ने इससे पूर्व भी मेला क्षेत्र से पेठा, गुड़, जलेबी, सूजी की कतनी, लडू, धनिया पाउडर, चाय, बेसन के दस नमूने जांच के लिए भेजे हैं। मेले में आए दुकानदारों को खाद्य सामग्री ढककर रखने के निर्देश दिए। उधर तहसील और नगर पालिका प्रशासन ने नगर में पालीथिन के विरुद्ध अभियान चलाया। इस दौरान छह व्यापारियों के विरुद्ध कार्रवाई की गई। उनसे 1100 रुपये का जुर्माना वसूला गया। बाहर से आए व्यापारियों में दिन भर हड़कंप मचा रहा।

तहसीलदार दीपिका आर्य ने पालीथिन के खिलाफ अभियान चला। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक प्रतिबंधित है। बावजूद कुछ व्यापारी उपयोग में ला रहे हैं। यह पर्यावरण के लिए खतरनाक है। जिसे लेकर सभी को जागरूकता की जरूरत है। इस दौरान नगर के एक दर्जन से अधिक दुकानों में छापेमारी की गई। छह दुकानों से पालीथिन जब्त किया गया। टीम में प्रभारी सफाई निरीक्षक रजत कुमार ने व्यापारियों को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि यदि पालीथिन बेचते दूसरी बार पकड़े गए, तो जुर्माना दोगुना वसूला जाएगा। तीसरी बार में बड़ी कार्रवाई होगी।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here