गोरखपुर। कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए अत्यन्त आवश्यक साधन मास्क एवं पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पी.पी.ई.) का पूर्वोत्तर रेलवे द्वारा बड़े पैमाने पर इन-हाउस उत्पादन किया जा रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा अभी तक लगभग 87,000 मास्क एवं 5300 पीपीई तैयार किया गया है। मास्क का वितरण कर्मचारियों, उनके परिजनों आदि में किया जा रहा है। पी.पी.ई.किट का का उपयोग रेल चिकित्साकर्मियों द्वारा किया जा रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे के तीनों मण्डलों-लखनऊ, वाराणसी एवं इज्जतनगर के विभिन्न कोचिंग डिपो के साथ ही याँत्रिक कारखाना, गोरखपुर तथा याँत्रिक कारखाना, इज्जतनगर द्वारा मास्क बड़े पैमाने पर बनाये जा रहे हैं।

लखनऊ मण्डल द्वारा अभी तक लगभग 14,000 मास्क तैयार किये जा चुके हैं। इसी क्रम में इज्जतनगर मण्डल द्वारा लगभग 19,000 एवं वाराणसी मण्डल द्वारा लगभग 23,000 मास्क बनाये गये हैं। याँत्रिक कारखाना गोरखपुर में लगभग 21,000 एवं इज्जतनगर कारखाना में 10,000 से अधिक मास्क बनाकर कोविड-19 महामारी से बचाव एवं इसके फैलाव को रोकने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेन्ट (पी.पी.ई.) का उत्पादन याँत्रिक कारखाना गोरखपुर एवं इज्जतनगर कारखाना में तेजी से किया जा रहा है। अभी तक बनाये गये लगभग 5,300 पी.पी.ई. में से याँत्रिक कारखाना गोरखपुर में लगभग 2900 एवं याँत्रिक कारखाना इज्जतनगर में 2400 से अधिक पी.पी.ई. तैयार किये गये। उल्लेखनीय है कि मास्क एवं पी.पी.ई. का बड़े पैमाने पर बनाने का कार्य पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा अपने संसाधनों से किया जा रहा है।


Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here