अपराधउत्तराखंडऊधमसिंह नगरकारोबार

सितारगंज न्यूज: शराब पीते हैं तो क्या लुट जाएं, बिल की बजाय हाथ से लिखकर मिल रही पर्ची, उस पर भी मोहर गायब

नारायण सिंह रावत
सितारगंज।
शहर की अंग्रेजी शराब की दुकान पर ओवररेटिंग का खूब खेल हो रहा है। शराब खरीदने जाने वाले ग्राहकों को सेल्समैन कागज पर हाथ से लिखकर बिल दे रहे हैं। इस पर भी दुकान की मोहर नहीं लगती है। यहां पर गड़बड़ी पकड़े जाने पर भी केवल थोड़ा बहुत जुर्माना कर आबकारी विभाग इतिश्री कर रहा है। सितारगंज में बिजट्टी चौक के पास अंग्रेजी शराब की दुकान है। दुकान तो सरकारी ठेके में नीलाम की गई है, लेकिन नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है। यहां बिल मशीन हमेशा खराब ही रहती है।

अगर कोई दुकान पर बिल मांगता है तो पहले सेल्समैन टालमटोल करता है। बाद में ग्राहकों को हाथ लिखा बिल थमा दिया जाता है। इस पर भी न दुकान का नाम व मुहर नहीं लगती है। इतना ही नहीं सेल्समैन प्रिंट रेट से अधिक दाम वसूलते हैं । कई बार आबकारी विभाग ने दुकान पर ओवररेटिंग पकड़ी है। लेकिन, केवल 10 से 15 हजार जुर्माना लगाकर छोड़ दिया जाता है । बताया जा रहा है कि विभाग के अधिकारियों की इसमें मिलीभगत है।

दुकान नहीं हो रहा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन
कोरोना महामारी को लेकर प्रशासन सभी से सुरक्षा के नियमों का पालन करने की अपील कर रहा है, लेकिन शराब की दुकान पर इसका पालन नहीं किया जा रहा है। यहां ग्राहकों को सेल्समैन धक्कामुक्की के बीच शराब दे रहे हैं। शराब बेचते समय सेनिटाईजेशन का कार्य भी नहीं हो रहा है।

छापे से पहले दुकान स्वामी को मिल जाती है सूचना
शराब की दुकान पर भले ही ग्राहक लुट रहे हों लेकिन विभाग को कोई फर्क नहीं पड़ता है। सूत्र बताते हैं कि जब कोई दुकान की शिकायत करता है तो विभाग दिखावे के लिए छापेमारी करता है। इस पर भी छापे की सूचना दुकान मालिक को मिल जाती है। अधिकारियों के पहुंचने से पहले ही दुकान की व्यवस्था दुरुस्त हो जाती है।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!