उत्तराखंडनैनीताल

ब्रेकिंग न्यूज : गर्जिया मंदिर को संकट से उबारेगा आईआईटी रूड़की, डीएम ने सिविल इंजीनियरिंग विभागाध्यक्ष को भेजा पत्र

रामनगर/हल्द्वानी। रामनगर से 14 किमी की दूरी पर स्थापित ऐतिहासिक मां गर्जिया देवी मन्दिर की पहाड़ी पर आई दरार के बेहतर एवं स्थाई उपचार के लिए जिलाधिकारी धीराज सिह गर्ब्याल ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। उन्होने प्रो. सत्येन्द्र मित्तल विभागाध्यक्ष सिविल इंजीनियरिंग विभाग आईआईटी रूडकी को पत्र प्रेषित किया है। जिलाधिकारी ने प्रो. मित्तल को प्रेषित पत्र में उल्लेख किया है कि गर्जिया देवी मन्दिर ऐतिहासिक एवं पौराणिक होने के कारण स्थानीय निवासियों एवं अन्य लोगों की मन्दिर से आस्था जुडी हुई है। मन्दिर मे अत्यधिक संख्या में वर्षभर श्रद्धालुओं का आवागमन बना रहता है।

सेवा नियमावली के उल्लंघन के आरोप में अल्मोड़ा के सिविल जज (सीनियर डिवीजन) निलंबित

अपने पत्र में जिलाधिकारी ने उल्लेख किया है कि विगत काफी समय से गर्जिया मन्दिर की पहाड़ी में स्थान-स्थान पर दरारें दिखाई पड़ रही है।इस ही पहाड़ी पर यह मंदिर स्थापित है। जिस कारण निकट भविष्य मे मन्दिर को खतरा होने की सम्भावनाओं से इन्कार नहीं किया जा सकता है। मन्दिर का ऐतिहासिक एवं पौराणिक महत्व है अतः मन्दिर की पहाडी पर दरारों की जांच एवं सुरक्षात्मक उपाय किया जाना नितांत आवश्यक है। उन्होंने आग्रह किया है कि सुरक्षात्मक उपायों हेतु कार्ययोजना तैयार किये जाने हेतु आईआईटी रूडकी की विशेषज्ञ टीम को रामनगर भेजी जाए। इस महत्वपूर्ण कार्य पर होने वाले व्यय का भुगतान जिला प्रशासन द्वारा किया जायेगा।

हल्द्वानी : प्रैक्टिकल देने गई छात्रा लापता, पुलिस जुटी तलाश में

गर्ब्याल ने बताया कि मन्दिर के संरक्षण के लिए सरकार गम्भीर है। मुख्यमंत्री स्तर से इस महत्वपूर्ण कार्य की समीक्षा की जा रही है। उनके निर्देश पर रूडकी के विशेषज्ञों से सर्वे कराकर प्रभावी कार्यवाही की जायेगी।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!