कांगड़ामण्डीलाहौल स्पितीशिमलासिरमौरसोलनहिमाचल

ब्रेकिंग हिमाचल : करियाला, लुड्डी डांस और सोवा रिंग्पा भारत की सांस्कृतिक विरासत की सूची में शामिल

अनूप लेप्टा

शिमला। भारत के संस्कृति मंत्रालय ने हिमाचल की तीन विधाओं को देश की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की राष्ट्रीय सूची में स्थान दिया है। इनमें सोलन, शिमला और सिरमौर जिले की करियाला,मंडी का लुड्डी डांस और बौद्ध धर्म का हिलिंग का ​ज्ञान सोवा रिंग्पा शामिल हैं। इसके अलावा हिमाचल सहित लगभग समस्त उत्तर भारत में फैले जंगम समुदाय के लोगों का जंगम ज्ञान भी इस सूची में दर्ज किया गया है।

करियाला

करियाला लोक रंगमंच का एक रूप है, जो सोलन शिमला और सिरमौर के स्थानीय देवता को समर्पित है, जिसे बिजेश्वर के रूप में जाना जाता है, जो उस क्षेत्र में कृषि समृद्धि प्राप्त करने या व्यक्तिगत इच्छाओं की पूर्ति होने पर किया जाता है। एक भव्य दावत के बाद, करियाला कलाकार अपना श्रृंगार करने के लिए बैठ जाते हैं। दर्शकों को एक खुले मंच के आसपास इकट्ठा किया जाता है। हारमोनियम, शहनाई, डंका जैसे वाद्य यंत्रों की धुन पर स्थानीय देवताओं के आह्वान के साथ शुरू होता है, जिसे देवकृदा कहा जाता है। फिर परस्पर वार्तालाप, स्वैग या स्किट और डिडक्टिक प्रदर्शन होते हैं जो घरेलू, स्थानीय राजनीति, सामाजिक संबंधों आदि पर टिप्पणी करते हैं, जो ज्यादातर साधुओं, सूत्रधारों और पुरुषों द्वारा महिलाओं के रूप में तैयार किए गए पात्रों द्वारा दिए जाते हैं।

लुड्डी डांस

लुड्डी हिमाचल प्रदेश के मंडी डिस्ट्रिक का पारंपरिक लोक नृत्य है। लुड्डी एक जीत नृत्य या उत्सव का नृत्य है, जहां लोग अपने हाथों की विशेष हरकतें करते हैं। यह एक बहुत ही सुंदर नृत्य है जो बहुत धीमी गति और लयात्मकता के साथ शुरू होता है और धीरे-धीरे यह तेज धुनों के साथ गोल घेरा बनाते हुए आगे बढ़ता है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा और कभी-कभी केवल महिलाओं द्वारा किया जाता है। नृत्य के लिए महिलाएं एक लंबी और भारी अंगरखा शैली का कुर्ता पहनती हैं, जिसे चोलू कहा जाता है और इनके सिर पर चांदी के ज्वैलरी के साथ चमकीला और भारी दुपट्टा होता है। पुरुष सफेद कुर्ता, मैरून रंग का साफा धारण करते हैं। लुड्डी गायक और पर्क्युसिन वादक भी डांस का महत्वपूर्ण भाग होते हैं। ढोल, नगाड़ा, झांझ, शहनाई, तुरमु और कंगाररंगे जैसे वाद्ययंत्र लुड्डी नृत्य के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले तार वाले वाद्य हैं।

सोवा-रिंग्पा
सोवा रिग्पा शब्द भोटी भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘ज्ञान का उपचार ’ यह एक प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली है जिसे भारत में भगवान बुद्ध प्रकाश में लाए और प्रचारित किया। बाद में संपूर्ण ट्रांस हिमालयन क्षेत्र में फैल गया। सोवा रिग्पा को सदियों से विभिन्न पर्यावरणीय और सांस्कृतिक संदर्भों में विकसित और शामिल किया गया है। हर गांव में सार्वजनिक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए एक अम्ची परिवार होता है। आज, सोवा रिग्पा को भारत, भूटान, मंगोलिया और तिब्बत की सरकारों द्वारा एक पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली के रूप में स्वीकार किया है। सिद्धांत चिकित्सा पाठ (चतुश तंत्र-संस्कृत भाषा में सोवा-रिग्पा के मौलिक सिद्धांतों का एक ग्रंथ) भगवान बुद्ध दिया गया था। 8 वीं -12 वीं शताब्दी में भोटी भाषा में अनुवाद किया गया और बाद में युथोक योंतन गोमबो और अन्य विद्वानों द्वारा संशोधित किया गया।
सोवा रिग्पा की उत्पत्ति 2500 साल पहले भारत में हुई थी और इसे 8 वीं शताब्दी ईस्वी के आसपास ट्रांसहिमालयन क्षेत्र में पेश किया गया था। तब से इसे शिक्षक-छात्र-वंश के माध्यम से प्रचारित और प्रसारित किया जाता है।

Leave a Comment!